मुख्य बिंदु

कानपुर की सर्द रातो में बेघर लोगों को रैनबसेरों तक ले जाने के लिए नगर निगम ने शुरू की नई पहल।
नगर निगम ने लोगों को रैनबसेरों तक पहुंचाने के लिए शुरू की निःशुल्क ई-रिक्शा की व्यवस्था।
यह सभी ई-रिक्शा शहर के हर जोन में घूमेंगे और जरूरतमंदो को रैनबसेरों तक ले जाएंगे।
बेघर बेसहारा लोगों को सहारा देने के लिए कानपुर में रैनबसेरे की सुविधा नगर निगम द्वारा शुरू की गई है और यह व्यवस्था पूरी तरह से निःशुल्क है

कानपुर की सर्द रातों में खुले आसमान के निचे सोने वाले बेसहारा और बेघर लोगों को सहारा देने के लिए शहर में रैनबसेरों का संचालन किया जा रहा है। इसके लिए शहर के कई इलाकों में रेनबसेरे बनाये गए हैं जहां कोई भी जरूरतमंद अपनी आईडी दिखाकर रात गुजार सकता है। रैनबसेरों में ज्यादा से ज्यादा लोगों को लाने के लिए नगर निगम ने एक नई पहल शुरू की है।

कानपुर मेयर प्रमिला पांडेय ने बीते गुरुवार को मोतीझील स्तिथ प्रांगण से रैनबसेरा ई रिक्शा अभियान का शुभारंभ किया। यह ई रिक्शा जोन में घूमेंगे, जो लोग किनारे फूटपाथ या सड़क के अन्य खुली जगहों पर रात में सोते हैं उन्हें बैठाकर नगर निगम के रैनबसेरों में रात गुजारने के लिए लाया जाएगा, जिससे वह लोग ठण्ड में खुले आसमान के निचे न सोएं। बेघर बेसहारा लोगों को सहारा देने के लिए कानपुर में रैनबसेरे की सुविधा नगर निगम द्वारा शुरू की गई है और यह व्यवस्था पूरी तरह से निःशुल्क है।

शहर के 5 इलाकों में बने रैनबसेरों में है ठहरने की उत्तम व्यवस्था

बेसहारा और बेघर लोगों को ठंड में सहारा देने के लिए कानपुर में कई जगह रैनबसेरे बनाये गए हैं और इन रैनबसेरों में कई सारी सुविधाएं मौजूद है। ग्वालटोली रैनबसेरा में अच्छे बिस्तर लगे हुए हैं, बाथरूम और टॉयलेट की अच्छी व्यवस्था है। बिस्तरों पर कंबल रखे हुए हैं और इस रैनबसेरे में 8 लोगों के रुकने की पर्याप्त व्यवस्था है। वहीं सरसैया घाट रैनबसेरा में 50 से ज्यादा लोगों के ठहरने की व्यवस्था है। साथ ही, परमट रैनबसेरा में भी लोगों के रहने की अच्छी व्यवस्था है। यहां पुरुष और महिलाओं के लिए अलग अलग कमरे बने हुए हैं। उस्मानपुर रैनबसेरा में दो हॉल है जिसमें 20 बेड लगे हैं, साफ सुथरे गद्दे और कंबल की व्यवस्था मौजूद है। हॉल में एक टीवी भी लगी हुई है और दो टॉयलेट है। चकेरी स्थित डिफेंस कॉलोनी में बने रैनबसेरा में एक बड़े कमरे में 8 लोगों के रुकने का इंतजाम है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *