मुख्य बिंदु

कानपुर नगर निगम और स्मार्ट सिटी लिमिटेड मिलकर शहर में स्मार्ट पार्किंग स्थलों के विकास पर काम कर रहे हैं।

➡कमीशनर डॉ. राज शेखर ने जिले भर में स्थापित किए जा रहे 43 ऐसे पार्किंग स्थलों में से तीन का निरीक्षण किया।

➡कंपनी टेक महिंद्रा की सहायता से सभी 43 पार्किंग सुविधाओं में पर्याप्त सीसीटीवी कैमरे लगे होंगे।

➡इस योजना के तहत एक मोबाइल एप्लिकेशन शुरू किया जाएगा जिसमें डिजिटल भुगतान और ऑनलाइन पार्किंग के लिए जगह बुक करने के विकल्प होंगे।

➡कुल स्थानों में से 13 का उपयोग कारों की पार्किंग के लिए किया जाएगा, जबकि अन्य स्थानों का उपयोग दोपहिया वाहनों को खड़ा करने के लिए किया जाएगा।

कानपुर नगर निगम और स्मार्ट सिटी लिमिटेड मिलकर शहर में स्मार्ट पार्किंग स्थलों के विकास पर काम कर रहे हैं। रिपोर्ट के अनुसार, कमीशनर डॉ. राज शेखर ने स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत जिले भर में स्थापित किए जा रहे 43 ऐसे पार्किंग स्थलों में से तीन का निरीक्षण किया। इस योजना के तहत एक मोबाइल एप्लिकेशन शुरू किया जाएगा जिसमें डिजिटल भुगतान के कई विकल्प होंगे। यह योजना इस एप के माध्यम से शहर के पार्किंग बुनियादी ढांचे के लिए डिजिटल सुधार को बढ़ावा देगी।

लगभग 1,500 कारों और 2,500 दोपहिया वाहनों की पार्किंग क्षमता के साथ


यह बताया गया है कि आयुक्त ने इस परियोजना के लिए तकनीकी सहायता प्रदान करने वाली कंपनी टेक महिंद्रा को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि सभी 43 पार्किंग सुविधाओं में पर्याप्त सीसीटीवी कैमरे लगे हों। एक बार जब सभी केंद्र चालू हो जाएंगे, तो उनके पास लगभग 1,500 कारों और 2,500 दोपहिया वाहनों को रखने की कुल क्षमता होगी। कथित तौर पर, कानपुर स्मार्ट पार्किंग नामक डिजिटल भुगतान इंटरफ़ेस के लिए परिवर्तनों पर काम किया जा रहा है और इसे जल्द ही सार्वजनिक उपयोग के लिए शुरू किया जाएगा।

शहर का नक्शा और चिह्नित पार्किंग स्थलों के लिए मोबाइल एप्लिकेशन


रिपोर्ट के मुताबिक, नए पार्किंग ऐप पर लिस्ट होने वाले किराए और नॉर्म्स जल्द ही तय किए जाएंगे। वर्तमान में, कानपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड यह सुनिश्चित करने के लिए अपनी योजनाओं में तेजी लाई है कि केंद्र जल्द से जल्द उपयोग के लिए तैयार हैं। कथित तौर पर, कुल स्थानों में से 13 का उपयोग कारों की पार्किंग के लिए किया जाएगा, जबकि अन्य स्थानों का उपयोग दोपहिया वाहनों को खड़ा करने के लिए किया जाएगा।

केएससीएल में सूचना प्रौद्योगिकी इंचार्ज ने बताया कि एप्लीकेशन में शहर का नक्शा होगा और उस पर डेसिग्नेटेड पार्किंग स्थान चिह्नित किए जाएंगे। नागरिक जरूरत के स्थान पर स्पॉट बुक करा सकते हैं। इस नई योजना के आने से नागरिक पार्किंग सुविधाओं का उपयोग बिना किसी परेशानी के कर सकेंगे। इसके अलावा, पार्किंग स्थलों के नियमन और निगरानी में भी सुधार किया जाएगा।