ऑक्सीजन प्रोडक्शन यूनिट्स को चलाने के लिए आईआईटी कानपुर ने वर्कफोर्स को ट्रेनिंग देने की एक विशेष पहल शुरू की है। प्रतिष्ठित संस्थान ने वर्कफोर्स को ट्रेन करने के लिए एक सप्ताह का कार्यक्रम शुरू किया है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के सहयोग से संस्थान के मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग ने एक ऑनलाइन कोचिंग प्रोग्राम शुरू किया है। इस पहल के माध्यम से, आईआईटी कानपुर का उद्देश्य ऑक्सीजन प्लांटों को चलाने के लिए और उनके रखरखाव के लिए प्रोफेशनल्स के समूह को ट्रेन करना है।

पहले बैच की शिक्षा बुधवार से शुरू हो गई हैं

आईआईटी कानपुर के डायरेक्टर अभय करंदीकर ने अपने ट्विटर अकाउंट के माध्यम से जानकारी दी कि देश भर में 500 PSA ऑक्सीजन उत्पादन प्लांट स्थापित किए जा रहे हैं। इसके साथ, ट्रेंड वर्कफोर्स की तत्काल आवश्यकता सुनिश्चित करना ज़रूरी है जिससे प्लांट कुशलतापूर्वक चलाएं जाएँ। इसी सम्बन्ध में ये नया कोर्स शुरू किया गया है।

बुधवार को पहले बैच के छात्रों के लिए वर्चुअल प्लेटफॉर्म पर ट्रेनिंग का कार्यक्रम शुरू हुआ। इस उद्घाटन समारोह में सुश्री नीलम शम्मी राव, डायरेक्टर जनरल, डायरेक्टरेट जनरल ऑफ़ ट्रेनिंग, और सेंट्रल मेडिकल सर्विसेज सोसाइटी के डीजी और सीईओ श्री. सुरेश पुरी की उपस्थिति देखी गयी। यह कहा गया है कि MoSDE से कुल 100 नॉमिनेटेड व्यक्तियों को इस योजना के माध्यम से पढ़ाया जाएगा। इसके बाद, वे नए प्लांटों में तैनात किए जाने वाले ऑपरेटरों और तकनीशियनों की ट्रेनिंग में सहायता करेंगे।

निदेशक ने एक ट्वीट के माध्यम से कहा, "मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के श्री चंद्र शेखर गोस्वामी (तकनीकी अधीक्षक) के सक्रिय समर्थन के साथ, डॉ समीर खांडेकर और डॉ मलय दास द्वारा ट्रेनिंग दी जा रही है।" उन्होंने यह भी बताया कि इस कार्यक्रम के लिए आईआईटी के अपने ऑनलाइन प्लेटफार्म MOOKIIT का उपयोग किया जा रहा है।