जबकि कोरोना का खतरा अभी कम नहीं हुआ है लेकिन उत्तर प्रदेश में ताजा मामलों की संख्या ने निश्चित रूप से राहत की सांस दी है। पिछले 24 घंटों में यहां केवल 36 नए मामले सामने आए हैं। राज्य के 75 में से 52 जिलों ने इस अवधि के दौरान मामलों में कोई वृद्धि दर्ज नहीं की। आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार, यूपी में वर्तमान समय में सक्रिय मामलों की संख्या 664 है।

यूपी के 10 जिले कोरोना मुक्त घोषित


शून्य मामलों के साथ, यूपी के 10 जिलों को कोरोना मुक्त जिलों के रूप में बताया गया है। रिपोर्ट के अनुसार, उत्तर प्रदेश में अलीगढ़, अमरोहा, एटा, फर्रुखाबाद, हाथरस, कासगंज, कौशांबी, महोबा, प्रतापगढ़ और श्रावस्ती को कोरोना मुक्त घोषित किया गया है।

इसके अलावा, 23 अन्य जिलों में मामले में वृद्धि अब सिंगल अंकों तक सीमित हो गयी है, जिससे समग्र रिकवरी रेट में काफी सुधार हुआ है। राज्य ने अपनी दैनिक पाजिटिविटी दर को 0.01% तक कम करने में भी सफलतापूर्वक कामयाबी हासिल की है, जो देश में सबसे कम है। पिछले 20 दिनों में मामलों की संख्या सौ से कम हो गयी है।

उत्तर प्रदेश की टेस्टिंग क्षमता ने भी राष्ट्रों में एक शानदार छाप छोड़ी है। आबादी वाला राज्य प्रति वर्ग किलोमीटर 690 लोगों का घनत्व रखता है और भारत का एकमात्र राज्य है जिसने एक दिन में 3 लाख से अधिक नमूनों का परीक्षण किया है।

महामारी के खतरे को कम करने के लिए जनता से सुरक्षा प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन करने का आग्रह किया गया है। मुख्यमंत्री ने वायरस के खतरे के खिलाफ एक मजबूत बचाव का निर्माण करने के लिए जनता को मेगा वैक्सीन ड्राइव का लाभ उठाने के लिए प्रोत्साहित किया है।

प्रत्याशित 'तीसरी लहर' से पहले की तैयारी

इस बीच, उत्तर प्रदेश में 'तीसरी लहर' के संभावनाओं को देखते हुए पहले से तैयारियां जोरों पर हैं। प्रशासन ने अधिक ऑक्सीजन प्लांट और वेंटिलेटर बेड को समायोजित करने के लिए चिकित्सा बुनियादी ढांचे को और मज़बूत करके की व्यवस्था की है। बच्चों के लिए सुविधाएं भी लगाई जा रही हैं, जहां लखनऊ में करीब 156 बाल चिकित्सा बिस्तर लगाए गए हैं। इनमें से करीब 56 वेंटिलेटर से सुसज्जित हैं।

एक सरकारी बयान में कहा गया है, "शेष बिस्तरों में पाइपलाइनों के माध्यम से ऑक्सीजन सपोर्ट मौजूद है और बाल चिकित्सा वार्ड उपयोग के लिए तैयार है।" लखनऊ के बलरामपुर अस्पताल में बच्चों के लिए 40 बिस्तरों वाली वेंटीलेटर इकाई भी तैयार है और 100 बिस्तरों की ऑक्सीजन की आवश्यकता को पूरा करने के लिए ऑक्सीजन उत्पादन प्लांट अब काम कर रहा है।