मुख्य बिंदु:

कानपुर मेट्रो के निर्माण कार्य में टनल बनाने के लिए लखनऊ और टर्की से टीबीएम मशीने लाई जाएंगी।

इसके लिए लखनऊ मेट्रो के निर्माण में इस्तेमाल की गई 2 टनल बोरिंग मशीन, ‘गंगा’ और ‘गोमती’ का इस्तेमाल किया जाएगा।

टनल को जमीन के 21 मीटर नीचे बनाया जाएगा।

योजना के अनुसार, 2024 तक पूरा किया जाएगा अंडरग्राउंड का काम

कानपुर मेट्रो के निर्माण कार्य को अगले चरण में ले जाते हुए अब अंडरग्राउंड मेट्रो स्टेशन के निर्माण के बाद टनल बनाने के काम में तेज़ी लाई जाएगी। इसके लिए लखनऊ मेट्रो के निर्माण में इस्तेमाल की गई 2 टनल बोरिंग मशीन (TBM), ‘गंगा’ और ‘गोमती’ को कानपुर लाया जाएगा। साथ ही, अन्य टीबीएम मशीनें को टर्की से मंगवाई जाएंगी। योजना के अनुसार, टनल को जमीन के 21 मीटर नीचे बनाया जाएगा।

2024 तक पूरा किया जाएगा अंडरग्राउंड का काम

रिपोर्ट के अनुसार, अंडरग्राउंड का काम 2024 तक पूरा किया जाना है। टीबीएम सबसे पहले चुन्नीगंज से नयागंज के बीच चलाई जाएगी। चुन्नी गंज से नयागंज, नयागंज से टांसपोर्ट नगर और सीएसए से डबल पुलिया तक अप और डाउन लाइन के अंडरग्राउंड रूट हैं, इसके लिए एक साथ 6 TBM काम करेंगी।

कथित तौर पर टीबीएम की असेंबलिंग भी कानपुर में की जाएगी, जिसके लिए हर एक हिस्से को 250 टन की क्रेन द्वारा शॉफ्ट से नीचे ले जाना, सही जगह पर स्थिर करना और फिर आपस में जोड़ना शामिल है।​​​

नवीन मार्केट से काम हुआ शुरू

नवरात्र के मौके पर कानपुर मेट्रो के अंडरग्राउंड सेक्शन के लिए नवीन मार्केट मेट्रो स्टेशन का काम भी शुरू कर दिया गया है। स्टेशन के निर्माण के लिए वॉल लगाने का काम शुरू कर दिया गया है। पहले कॉरिडोर के सेकंड सेक्शन पर चुन्नी गंज से ट्रांसपोर्ट नगर मेट्रो का संचालन अंडरग्राउंड होगा।

नयागंज से ट्रांसपोर्ट नगर तक अंडरग्राउंड मेट्रो स्टेशनों के निर्माण के लिए ग्लोबल टेंडर कॉल किए गए हैं। जल्द ही टेक्निकल और फाइनेंशियल बिड ओपन की जाएगी। इस सेक्शन में नयागंज, कानपुर सेंट्रल स्टेशन, झकरकटी और ट्रांसपोर्ट नगर तक का कार्य किया जाएगा, 1250 करोड़ रुपए से इस सेक्शन का निर्माण किया जाना है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *