जरूरी बातें

28 दिसम्बर को पीएम द्वारा कानपुर मेट्रो को हरी झंडी दिखाई गयी।

29 दिसम्बर से शहरवासी मेट्रो के सफर का आनंद ले सकेंगे।

दिल्ली और लखनऊ की मेट्रो के अपेक्षा कानपुर मेट्रो के टोकन प्लास्टिक के नहीं बल्कि पेपर के होंगे।

सुबह छह बजे पहली व रात 10 बजे मिलेगी आख़िरी मेट्रो।

एक स्टेशन से दूसरे स्टेशन जाने के लिए 17 रुपये करने होंगे खर्च।

उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कारपोरेशन (यूपीएमआरसी) ने कानपुर मेट्रो के पहले फेज के आईआईटी से मोतीझील तक के सभी मेट्रो स्टेशनों को पूरी तरह से तैयार कर लिया है। 28 दिसंबर को पीएम द्वारा हरी झंडी दिखाई जाने के बाद, 29 दिसम्बर से शहरवासी मेट्रो के सफर का आनंद ले सकेंगे। मेट्रो के सभी स्टेशनों पर मौजूद सुविधाएं स्मार्ट सिटी के सुगम यातायात की परिकल्पना को साकार करता है। कानपुर मेट्रो के वास्तविकता में तब्दील होने के साथ, शहर के 31 लाख से अधिक निवासियों के लिए मेट्रो सेवा वरदान साबित होगी जो शहर में यातायात की भीड़, पार्किंग की कमी और यहां तक कि वायु प्रदूषण के मुद्दों को हल करने में बहुत योगदान देगी।

स्टेशनों की पहली मंजिल में मिलेगा टिकट

कानपुर मेट्रो के पहले फ़ेस के सभी स्टेशन एलिवेटेड बनाए गए है. कुल नौ स्टेशन वाले पहले कारिडोर में सभी स्टेशन दो तल के है, जिसमें पहले तल को कोनकोर्स कहा जाता है। कॉनकोर्स में प्रवेश करते ही टिकट काउंटर बनाया गया है जहां से यहां पर यात्री मेट्रो का सफ़र करने के लिए टिकट ख़रीद सकेंगे। दिल्ली और लखनऊ की मेट्रो के अपेक्षा कानपुर मेट्रो के टोकन प्लास्टिक के नहीं बल्कि पेपर के होंगे।

सुबह छह बजे पहली व रात 10 बजे मिलेगी आख़िरी मेट्रो

कानपुर मेट्रो सुबह से लेकर रात तक यात्रियों को शहर के एक कोने से दूसरे कोने तक ले जाने का काम करेगी.दिन में क़रीब 16 घंटे मेट्रो ट्रेनों का संचालन किया जाएगा.आईआईटी कानपुर से सुबह 6 बजे पहली मेट्रो ट्रेन मोतीझील की ओर रवाना की जाएगी,जबकि अंतिम ट्रेन रात 10 बजे चलेगी.वहीं, मोतीझील से आईआईटी के लिए भी पहली ट्रेन सुबह 6 बजे रवाना की जाएगी और अंतिम ट्रेन रात 10 बजे चलेगी।

एक स्टेशन से दूसरे स्टेशन जाने के लिए 17 रुपये करने होंगे खर्च

कानपुर मेट्रो का किराया भी लखनऊ मेट्रो के बराबर रखा गया है. नौ किमी वाले कारिडोर में एक से तीन किमी का किराया 17 रुपये रखा गया है। यानी अगर आपको एक स्टेशन से दूसरे स्टेशन जाना है तो आपको 17 रुपये चुकाने होंगे। जबकि नौ किमी का किराया 44 रुपये रखा गया है। यानी आईआईटी से मोतीझील जाने के लिए 44 रुपये खर्च करने होंगे।

इसके अलावा स्टेशन में प्रवेश करने के बाद यात्री मेट्रो ट्रेन तक आसानी से पहुंच सके इसका विशेष खयाल रखा गया है, ख़ासकर बुजुर्गों व दिव्यागों के लिए विशेष सुविधाएं भी उपलब्ध कराई गई हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *