प्रदुषण पर अंकुश लगाने के लिए, कानपुर शहर ने रविवार को 13 इलेक्ट्रिक बसों का स्वागत किया। कथित तौर पर, राज्य द्वारा शहर को 100 सिटी बसें देने के वादे का यह पहला लॉट है। जबकि दिसंबर के पहले सप्ताह में इन शून्य-प्रदुषण वाली बसों का एक महीने लम्बा ट्रायल रन शुरू होगा, 47 अन्य बसों की डिलीवरी दिसंबर के दुसरे सप्ताह में होने के संभावना है। इसके अलावा,अंतिम 40 बसों का लॉट का जनवरी 2022 तक कानपुर पहुँचने की संभावना है।

नयी ई-बसों के लिए चार्जिंग स्टेशन लगाने का काम चल रहा है

रिपोर्ट के अनुसार, डिविशनल कमिश्नर राज शेखर के साथ कानपुर नगर आयुक्त और स्मार्ट सिटी और सिटी बस सेवा के अन्य अधिकारी 13 बसों की नई खेप के कानपुर पहुँचने के समय शहर के अहिरवान में मौजूद थे। इसके अलावा, सहयोगी प्रबंध एजेंसी, पीएमआई भी कार्यक्रम के शीघ्र निष्पादन को सुनिश्चित करने के लिए ऑन-ग्राउंड परियोजना की स्थिति का निरीक्षण करने के लिए यहां मौजूद थे।

अभी तक, पीएमआई नियोजित 100 बसों के लिए 25 चार्जिंग पॉइंट्स की स्थापना को पूरा करने के लिए काम कर रहा है। विशेष रूप से, इनमें से 5 चार्जिंग पॉइंट 13 ई-बसों के समुचित संचालन के लिए 27 नवंबर तक तैयार हो जाएंगे। प्रोजेक्ट की टाइमलाइन के मुताबिक, नया बस लॉट इन चार्जिंग यूनिट्स का इस्तेमाल 28 नवंबर तक कर सकता है और अपना ट्रायल रन आसानी से शुरू कर सकता है। एक महीने के ट्रायल रन के बाद इस लॉट का कमर्शियल ऑपरेशन शुरू हो जाएगा।

इस बीच, शेष 20 चार्जिंग पॉइंट का काम 15 दिसंबर तक पूरा होने की संभावना है। रिपोर्ट में कहा गया है कि एक सप्ताह के परीक्षण के बाद इन्हें कार्यात्मक उपयोग के लिए खोल दिया जाएगा। इन बिजली स्टेशनों को बड़े सार्वजनिक शौचालयों से भी सुसज्जित किया जाएगा, जो कि डिविशनल आयुक्त द्वारा पहचानी गई एक नागरिक आवश्यकता है। तदनुसार, नगर आयुक्त को उसी के लिए एक अनुमान तैयार करने और अगले दो महीनों में इसे निष्पादित करने का काम सौंपा गया है।

ई-बस प्रणाली की अतिरिक्त विशेषताएं और पहलू

नई ई-बस प्रणाली में सीसीटीवी कैमरे, पैनिक बटन, वायरलेस अलार्म सेट और एक आपातकालीन ब्रेक सिस्टम जैसी अतिरिक्त सुविधाएं भी शामिल होंगी, जिन्हें आगमन मैदान पर आयुक्त को दिखाया गया था। उन्होंने कथित तौर पर सिटी बस अधिकारी, स्मार्ट सिटी अधिकारी, एक पीएमआई प्रतिनिधि और आईआईटी या एचबीटीयू के एक विशेषज्ञ सहित एक समिति के गठन के लिए नियुक्त किया है, जो कि लॉन्च से पहले सहायक प्रावधान की अंतिम जांच और प्रमाणन का संचालन करेगा।

इसके अलावा, कमिश्नर ने 15 दिसम्बर तक पूरी होने वाले सड़क-चौड़ीकरण प्रोजेक्ट और अंडरग्राउंड केबल स्कीम की भी समीक्षा की। आगामी चार्जिंग स्टेशनों के 500 मीटर के दायरे में नई सड़कों की मरम्मत और निर्माण का एक अन्य प्रस्ताव भी यहां रखा गया है। परियोजना के दायरे में कानपुर में अन्य सभी टूटी सड़कों की मरम्मत का काम भी शामिल होगा, ताकि इलेक्ट्रॉनिक बसों के संचालन को सुचारू रूप से किया जा सके। जनवरी 2022 तक यातायात के सुविधा जनक बनाने के लिए इस वर्ष के अंत तक इस योजना का संचालन पूरा किया जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *