भारतीय कानपुर संस्थान ने एक बार फिर शिक्षा के दायरे से बाहर अपनी विविध विशेषज्ञता को मजबूत तरह से दर्शाया  है। अपने नाम के साथ एक और प्रशंसा का पंख जोड़ते हुए, प्रोफेसर मुकेश शर्मा को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के ग्लोबल एयर पॉल्यूशन एंड हेल्थ – टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप (GAPH-TAG) के होनोररी मेंबर के रूप में नियुक्त किया गया है। यह पद दुनिया भर में कुछ चुनिंदा लोगों को दिया जाता है और इन टैग सदस्यों को डब्ल्यूएचओ के डायरेक्टर द्वारा सीधे शामिल किया जाता है।

सतत विकास लक्ष्यों की उपलब्धि में सहायता करेंगे IIT कानपुर के प्रोफेसर

प्रोफेसर मुकेश शर्मा एक एयर क्वालिटी एक्सपर्ट हैं, जो IIT-कानपुर में सिविल इंजीनियरिंग विभाग के साथ काम करते हैं। अपने विभिन्न उपलब्धियों के बीच, उन्होंने पालिसी इंगेजमेंट के साथ कठोर रिसर्च  किया है। उनकी क्षेत्र में जानकारी डब्ल्यूएचओ-टैग के माध्यम से तकनीकी मार्गदर्शन और इनपुट प्रदान करेगी। इनमें मुख्य रूप से वायु प्रदूषण और स्वास्थ्य के मुद्दों के क्षेत्र से संबंधित एसडीजी 3.9.1, 7.1.2 और 11.6.2 शामिल हैं।.

सतत विकास लक्ष्य (Sustainable Development Goals) 17 ग्लोबल लक्ष्यों का एक समूह है जिसे 2015 में यूनाइटेड नेशंस द्वारा प्लेनेट की रक्षा और 2030 तक सभी के लिए शांति और समृद्धि को सुनिश्चित करने के लिए अपनाया गया था। यह एजेंडा विभिन्न लक्ष्यों और मिशनों के माध्यम से, गरीबी को समाप्त करने और प्लेनेट की सुरक्षा के लिए कार्य करता है।

श्री मुकेश शर्मा डब्ल्यूएचओ, जिनेवा, इंटरनेशनल काउंसिल फॉर क्लीन ट्रांसपोर्ट, क्लीन एयर एशिया यूनाइटेड नेशनल एनवायरनमेंटल प्रोग्राम, बैंकॉक और विश्व बैंक के एक फ्रटर्निटी मेंबर हैं। संस्थान द्वारा जारी किये गए विज्ञप्ति में विस्तार से बताया गया है कि प्रोफेसर शर्मा अब 194 सदस्य राज्यों में एयर पॉल्यूशन कण्ट्रोल से जुडी नीतियों पर WHO के एडवाइजरी ग्रुप का हिस्सा होंगे।   

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *