अवसरों के नए और बेहतर द्वार खोलते हुए आईआईटी कानपुर ने गुरुवार को 4 ई-मास्टर कार्यक्रम शुरू किए। ये प्रोग्राम, महामारी के बीच बढ़ी हुई वर्चुअल लर्निंग की सुविधाओं को प्रदान करने के उद्देश्य से शुरू किये गए हैं। इन कार्यक्रमों से बड़ी संख्या में वर्किंग प्रोफेशनल्स को लाभ होने की उम्मीद है। जानकारी के अनुसार, ये चार ऑनलाइन कोर्स कम्युनिकेशन, साइबर सुरक्षा, पावर सेक्टर रेगुलेशन, अर्थशास्त्र और मैनेजमेंट, और कमोडिटी मार्किट और रिस्क मैनेजमेंट पर आधारित हैं।

कौशल सुधारने और रोजगार की संभावनाओं में सुधार करने का मौका

नए कोर्स के बारे में जानकारी देते हुए, आईआईटी कानपुर के डायरेक्टर प्रोफेसर अभय करंदीकर ने कहा कि कोर्स विशेषज्ञ फैकल्टी द्वारा तैयार किए गए हैं और उन्हें सर्वश्रेष्ठ शिक्षकों द्वारा पढ़ाया जाएगा। उन्होंने कहा, “जबकि उम्मीदवारों को एक फ्लेक्सिबल अवधि में कोर्स का एक सेट पूरा करना होगा, वे लैब सेशन, प्रदर्शनों और लैब के सर्वेक्षण से जुड़े दो सप्ताह के संपर्क कार्यक्रम में भी भाग लेंगे। डिजाइन किए गए कोर्स का उद्देश्य प्रोफेशनल्स को भविष्य के लिए तैयार करना है।”

छात्रों को अपने करियर की संभावनाओं के दायरे को बढ़ाने में मदद करने के लिए, यह कोर्स उन्हें भविष्य के लिए तैयार करेंगे। उम्मीद है कि रजिस्ट्रेशन की जुलाई के महीने में आयोजित की जाएगी जबकि कक्षाएं अगस्त में शुरू हो सकती हैं। इसके अतिरिक्त, कार्यक्रमों से संबंधित अन्य सभी जानकारी विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर मिल जाएगी।

यह कोर्स विभिन्न प्रकार के प्रशिक्षित प्रोफेशनल्स बनाने में मदद करेगा 

संस्थान के डायरेक्टर ने बताया कि साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में जल्द ही एक लाख से अधिक प्रोफेशनल्स की आवश्यकता होगी,इसीलिए यह कोर्स शुरू किया गया है। इसके अलावा, कम्युनिकेशन सिस्टम पर शुरू किया गया कोर्स 5G, 6G और एज कंप्यूटिंग जैसे नए इन्नोवेशंस के बेहतर प्रबंधन के लिए कर्मचारियों को ट्रेन करने में मदद करेगा। इसी तरह, अन्य दो कार्यक्रम ‘कमोडिटी डेरिवेटिव्स विशेषज्ञों’ (commodity derivatives स्पेशलिस्ट्स) और पावर सेक्टर के रेगुलेटर्स की बढ़ती आवश्यकता में सहायता करेंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *