समुद्र में उठने वाले 'तौकते' चक्रवाती तूफान (Cyclone Tauktae) की कानपुर डिवीज़न के जिलों- कानपुर नगर, कानपुर देहात, इटावा, औरैया, कन्नौज और फर्रुखाबाद में दस्तक देने की उम्मीद है। कानपुर के सीएसए विश्वविद्यालय, कानपुर डिवीजन और यूपी के अन्य जिलों के विशेषज्ञों के मौसम के पूर्वानुमान के अनुसार इस चक्रवाती तूफान के कारण 18 मई के आसपास तेज हवाएं और बारिश होने की संभावना है। तौकते चक्रवात इस समय मुंबई में अपना प्रभाव दिखा रहा है और यह अनुमान है की यह देश भर के तापमान, उमस और अन्य मौसम की स्थितियों को प्रभावित करेगा।

तौकते चक्रवात के कानपुर के पास आने की संभावना पर जारी की गई चेतावनी


चन्द्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, कानपुर के मौसम वैज्ञानिकों ने भविष्यवाणी की है कि चक्रवात तौकते कानपुर डिवीजन और अन्य यूपी जिलों को प्रभावित कर सकता है। यह भी कहा गया है कि आने वाले दिनों में इन जिलों में 30-35 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बारिश और हवाएं चलने की संभावना है।

रिपोर्ट के अनुसार, सीएसए विश्वविद्यालय के 'डॉ सुनील पांडे' ने कहा था कि मौसम सूखा रहेगा और 16 और 17 मई को तापमान बढ़ता हुआ देखा जाएगा। इस चक्रवात का प्रभाव 18 मई तक कानपुर डिवीज़न और यूपी के अन्य जिलों में देखा जाएगा। इस दौरान कानपुर डिवीज़न के सभी जिलों में 15 मिमी से 30 मिमी के बीच वर्षा देखी जा सकती है।

तौकते चक्रवात का खतरा पूरे देश में बढ़ रहा है

तौकते ने देश भर में सभी सक्रिय मौसमी सिस्टम डिफ्यूज कर दिए हैं, जिससे इस चक्रवात से खतरें बढे हैं। ऐसा अनुमान है कि मानसून के आने से पहले 18 मई तक तौकते, गुजरात के तटों पर पहुंच जाएगा। इसके अलावा, इस तूफान के कारण केरल, कर्नाटक, गोवा, कोंकण और लक्षद्वीप में मध्यम से भारी बारिश हो रही है।