ऐसा कुछ भी नहीं है जो ब्लू सिटी की सुंदरता से मेल खा सके, जो अपने परिसर के हर नुक्कड़ में बिखरे हुए चमकीले रंगों और आकर्षणों की एक श्रृंखला के साथ एक आर्टिस्टिक फिल्म के दृश्य जैसा दिखता है। जयपुर से सड़क मार्ग से लगभग 370 किमी की दूरी पर स्थित, जोधपुर दुखती और थकी हुई आंखों के लिए एक मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है और अब जब महामारी का प्रकोप कम होता दिख रहा है तो यह आपके लिए यह कभी ना भूल सकने वाली यात्रा साबित होगी। इसके अलावा, यदि आप ऐसे व्यक्ति हैं जो विभिन्न संस्कृतियों में लिप्त होना पसंद करते हैं और घूमने के शौक़ीन हैं, तो स्वर्गरुपी जोधपुर शहर में आपका स्वागत है, दोस्त। तो यहां उन 7 चीजों की सूची दी गई है, जिन्हें आप जोधपुर में बिलकुल भी मिस नहीं कर सकते हैं।

मेहरानगढ़ किला

जोधपुर के भव्य शहर को देखते हुए, जो एक प्रतिष्ठित नीले रंग में धोया गया है, मेहरानगढ़ किला एक महल है जिसे राव जोधा ने 15वीं शताब्दी में बनवाया था। अब इसे एक संग्रहालय में बदल दिया गया है, जहाँ आप प्राचीन हथियारों, चित्रों और विस्तृत शाही पालकियों की सुंदरता देख सकते हैं। शानदार वास्तुशिल्प डिजाइन के साथ समृद्ध, मेहरानगढ़ किला शहर की पृष्ठभूमि के बीच चित्रों के लिए एक आदर्श स्थान प्रदान करता है।

‘मेवाड़ का ताजमहल’

जसवंत थड़ा एक सुंदर मकबरा है, जिसे ‘मेवाड़ के ताजमहल’ के रूप में भी जाना जाता है और यह अपने स्मारकों और गुंबदों पर नक्काशी के पारंपरिक राजस्थानी फैशन का दावा करता है। यह संरचना वर्ष 1899 में महाराजा सदर सिंह ने अपने पिता महाराजा जसवंत सिंह तृतीय की याद में बनवायी थी और हरे भरे परिवेश के बीच खड़े होकर यह आज भी हमेशा की तरह युवा दिखती है। एक विस्मयकारी दृश्य, जसवंत थड़ा एक ऐसा स्थान है जिसे आप मिस नहीं कर सकते, खासकर अगर आप फोटोग्राफी का शौक रखते हैं।

राव जोधा डेजर्ट रॉक पार्क

वर्ष 2006 में बनाया गया, राव जोधा डेजर्ट रॉक पार्क की स्थापना मेहरानगढ़ किले के पास एक बड़े, चट्टानी बंजर भूमि को एक सुंदर रेगिस्तानी पार्क में बदलने के प्रयास में की गई थी, ताकि पर्यटक घूम सकें। विभिन्न प्रकार की चट्टानों और क्रिस्टल संरचनाओं, पौधों की 200 से अधिक प्रजातियों, प्राकृतिक नहरों और बहुत सारे रोमांच के लिए एक खुला स्थान, यह पार्क बावलिया नामक एक ‘विदेशी पौधे’ को भी समायोजित करता है। प्रकृति प्रेमियों के लिए अंतिम स्थान, राव जोधा डेजर्ट रॉक पार्क एक ऐसा स्थान है जिसे आप जोधपुर से गुजरते समय नहीं छोड़ सकते हैं।

उम्मेद भवन पैलेस

1928 से 1943 के दौरान, उसी पाम कोर्ट संगमरमर से निर्मित, जिसका उपयोग प्रतिष्ठित ताजमहल के निर्माण में किया गया था, उम्मेद भवन पैलेस से आपको पहली नजर में ही प्यार हो जाएगा। अब आलीशान 5 सितारा होटल में बदल गया यह महल दुनिया का छठा सबसे बड़ा निजी आवास है और जोधपुर के महाराजा गज सिंह और उनके परिवार का प्रमुख घर है।

मंडोर गार्डन

जोधपुर शहर से लगभग 9 किमी दूर स्थित, मंडोर की दीवारें उन सभी वर्षों की बात करती हैं जो उसने देखे हैं। बहुत सारे सुरम्य दृश्यों के साथ, मंडोर एक ऐसी यात्रा है जहाँ आपको अपने कैमरे में कैद करने के लिए कई सारे खूबसूरत दृश्य मिलेंगे। मंडोर गार्डन में प्राचीन स्मारक और ऊंची-चट्टान की छतें हैं जो बहुत खूबसूरत हैं और यहां एक मंदिर भी है, जिसे ’33 करोड़ देवताओं के मंदिर’ के रूप में जाना जाता है। उद्यान के प्रांगण में एक संग्रहालय भी है, जो इतिहास प्रेमियों के हितों की पूर्ति करता है।

‘नीली’ गलियां

लोककथाओं के अनुसार, जोधपुर में घर नीले हैं क्योंकि सालों पहले, सभी ब्राह्मणों ने अपने घरों को स्थानीय जातियों से अलग करने के लिए इस रंग में रंगा था। अब, ये नीले घर शहर की पहचान बन गए हैं और अगर आप एक फोटोग्राफर हैं, तो जोधपुर की सड़कें कुछ ऐसी हैं जिन्हें आपको अपने कैमरे के लेंस के माध्यम से देखना चाहिए।

मिठाई और सेवई का सेवन करें

अगर आप मीठे शौक़ीन हैं,तो गुलाब जामुन की सब्जी, रबड़ी के लड्डू, मखानिया लस्सी और बेसन की चक्की खाकर आपके मीठे की तलब दूर हो जायेगी। सिर्फ मीठा ही नहीं; जोधपुर आपके लिए पारंपरिक लाल मास, दाल बाटी, मिर्च की सब्जी और प्याज की कचौरी भी प्रदान करता है, इसलिए जब यहां, आपको सड़कों पर भोजन का रास्ता निश्चित रूप से लेना होगा।

नॉक नॉक

चाहे वह डार्क नाइट राइज के लिए क्रिस्टोफर नोलन हों या हम साथ साथ हैं के लिए सूरज बड़जातिया, कोई भी इस चमत्कारिक शहर को अपने लेंस के माध्यम से कैप्चर करने की इच्छा को रोक पाने में सक्षम नहीं है। जबकि जयपुर से जोधपुर की यात्रा आपके लिए यादगार साबित होगी, लेकिन फिर से महामारी की गति से सावधान रहें और सुनिश्चित करें कि आप इस मोहक शहर का पता लगाने के दौरान अपना मास्क, दस्ताने और सैनिटाइज़र ले जाएं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *