दुनिया भर की यात्रा किये बिना अगर आप यहीं भारत में 'स्कॉटिश महलों' की एक झलक देखना चाहते हैं, तो जयपुर शहर से मुश्किल से 5 किमी दूर स्थित मोती डूंगरी किले की यात्रा करें। यह किला मोती डूंगरी नामक एक छोटी पहाड़ी पर स्थित है, जिसका नाम इसलिए रखा गया है क्योंकि यह पहाड़ी मोती की आकृति जैसी दिखती है। कथाओं और इतिहास का एक अद्भुत समन्वय, यह जगह एक रीगल और धार्मिक आभा में लिपटी हुई है, जो देश भर के पर्यटकों को आकर्षित करता है। इसलिए अपने परिवार के साथ 'पर्ल हिल' जाने के लिए एक छोटी रोड ट्रिप की योजना बनाएं और और अपनी छुट्टी का भरपूर आनंद लें।



एक स्थानीय जानकार के अनुसार, मेवाड़ के राजा एक लंबी यात्रा के बाद अपने महल में वापस जा रहे थे और साथ में भगवान गणेश की एक मूर्ती बैलगाड़ी में रखे हुए थे। उन्होंने तय किया कि वे मंदिर का निर्माण उसी स्थान पर करेंगे जहाँ बैलगाड़ी रुकेगी और वह जगह मोती डूंगरी की पहाड़ी जहाँ बैलगाड़ी रुकी आज वहीँ 18वीं शताब्दी का गणेश मंदिर स्थित है। धार्मिक तीर्थयात्रियों का बड़ा झुंड इस मंदिर में आता है क्यूंकि यह गुलाबी शहर के सबसे शुभ और महत्वपूर्ण धार्मिक मंदिरों में से एक हैं।

गणेश मंदिर मोती डूंगरी किले के परिसर के भीतर स्थित है, जो मोती डूंगरी पहाड़ी के ठीक ऊपर स्थित है। ऐसा माना जाता है कि पहले जो छोटा किला यहां पर था, उसे शंकरगढ़ कहा जाता था और इसे वास्तुशिल्प से महल में बदल दिया गया जो स्कॉटिश महल से मिलता-जुलता था जिसे महाराजा सवाई मान सिंह ने बनाया था। यह राजमाता महारानी गायत्री देवी का शाही निवास था और अभी भी शाही परिवार से संबंधित है, इसलिए यह आम जनता के लिए खुला नहीं है।




यहां आकर पर्ल हिल की धार्मिक संरचनाओं के इतिहास में खो जाएँ और शान्ति से अपना समय बिताएं। अपने कैमरे को तैयार रखें ताकि, आप कहीं सुर्ख नीले आसमानों की खूबसूरत तसवीरें लेना न भूल जाएं।

नॉक नॉक (Knock Knock)

ताजा ख़बरों के साथ सबसे सस्ती डील और अच्छा डिस्काउंट पाने के लिए प्लेस्टोर और एप स्टोर से आज ही डाउनलोड करें Knocksense का मोबाइल एप और KnockOFF की मेंबरशिप जल्द से जल्द लें, ताकि आप सभी आकर्षक ऑफर्स का तत्काल लाभ उठा सकें।

Android - https://play.google.com/store/apps/details?id=com.knocksense

IOS - https://apps.apple.com/in/app/knocksense/id1539262930