भारत एक समय पर सोने की चिड़िया के रूप में दुनिया भर में प्रसिद्ध था और इसका मुख्य कारण था यहाँ पर कीमती धातुओं का व्यापक भण्डार जिन्हे आभूषणों के रूप में पहना जाता था, या फिर महलों के भव्य अलंकरण के लिए इस्तेमाल किया जाता था। राजेश अजमेरा और राजीव अरोड़ा द्वारा स्थापित जयपुर का 'आम्रपाली संग्रहालय' एक शानदार अतीत की गवाही देता है, जहाँ आदिवासी आभूषणों से लेकर मुगल, राजपूत और कई अन्य प्रकार के संग्रह शामिल हैं। इन पुरातन टुकड़ों की झिलमिलाती चमक को देखने के लिए एक यात्रा की योजना बनाएं और एक बार इतिहास की किताबों से दूर, इतिहास की यात्रा के लिए आज ही निकल पड़े !

मानव शरीर के हर हिस्से को सुशोभित करने वाले आभूषण प्रदर्शित



जयपुर के केंद्र अशोक नगर में स्थित आम्रपाली संग्रहालय एक छिपा हुआ रत्न है, जो भारत के लोगों द्वारा पहने जाने वाले लगभग हर तरह के आभूषणों को प्रदर्शित करता हैं। प्रदर्शन में मानव शरीर के हर हिस्से के लिए आभूषण के टुकड़ों के साथ, विदेशों से आने वाले मेहमानों को भारतीय शिल्प कौशल का एक आकर्षक दृश्य पेश किया जाता है। इसके अलावा, संस्थापक कहते हैं- "हमारे संग्रहालय का संग्रह, वर्षों से विद्वानों, डिजाइनरों, यात्रियों, छात्रों और पारखी लोगों के लिए अध्ययन और शोध के लिए उपलब्ध हैं।"

यह भी कहा जाता है, कि आम्रपाली संग्रहालय में संग्रहीत 4000 टुकड़ों में से, केवल 800 प्रदर्शन पर हैं और बाकी दृश्य भंडारण (virtual display) अनुभाग में पाए जा सकते हैं। दो मंजिलों में फैले, संग्रहालय के भूतल में भारत के लगभग हर क्षेत्र के चांदी और सोने के आभूषण मिलते हैं, विशेष रूप से वे जो जन्म से मृत्यु तक के संस्कार से जुड़े हैं। इसके अलावा, कलाकृतियों का संग्रह जिसने भारतीय इतिहास के शिल्पकारों को प्रेरित किया है, उन्हें तहखाने में प्रदर्शित किया जाता है।



दो तेज़ खंजरों वाली एक रत्न जड़ित पीठ खरोंचने की वस्तु, एक चांदी का रथ, पत्थरों से जड़ी सोने की परत वाले जूते और एक सुनहरा कैस्केड जो महिलाओं के बालों को सुशोभित करता है, ये आम्रपाली संग्रहालय में प्रदर्शित कुछ आश्चर्यजनक टुकड़े हैं। विशेष प्रदर्शन पर लगाए गए आभूषणों में, आदिवासी आभूषण इस जगह का मुख्य आकर्षण है। एक स्मारिका (souvenir) को घर ले जाने के लिए आगंतुक दस्तकारी के आभूषणों और म्यूजियम में रखे आभूषणों जैसे दिखने वाले आभूषणों की खरीदारी संग्रहालय की दुकान से कर सकते हैं।

नॉक नॉक (Knock Knock)

यदि आप भी पूरे भारत में पहने जाने वाले विभिन्न आभूषणों की चमक से आकर्षित होना चाहते हैं, तो आम्रपाली संग्रहालय की यात्रा आपके लिए बहुत जरूरी है। भारतीय इतिहास के रत्नों की चमक आपकी आँखों में सदैव अंकित रहेगी।

खुलने का समय - सुबह 11 बजे से शाम 6 बजे तक

दिन - रविवार को छोड़कर सभी दिन खुला रहता है

स्थान - अशोक नगर

प्रवेश शुल्क - 600 रुपये और 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए कोई शुल्क नहीं

ताजा ख़बरों के साथ सबसे सस्ती डील और अच्छा डिस्काउंट पाने के लिए प्लेस्टोर और एप स्टोर से आज ही डाउनलोड करें Knocksense का मोबाइल एप और KnockOFF की मेंबरशिप जल्द से जल्द लें, ताकि आप सभी आकर्षक ऑफर्स का तत्काल लाभ उठा सकें।

Android - https://play.google.com/store/apps/details?id=com.knocksense

IOS - https://apps.apple.com/in/app/knocksense/id1539262930