मुख्य बिंदु:

जयपुर में सुरक्षा और स्वच्छता के मानकों का पालन करने वाले स्ट्रीट फूड वेंडर्स के समूह को ‘क्लीन स्ट्रीट फूड हब’ टैग दिया जाएगा। 

स्वास्थ्य विभाग द्वारा जयपुर में विक्रेताओं को स्वच्छता के मानदंडों का पालन करने के लिए प्रशिक्षित भी किया जाएगा।

योजना के पहले चरण में शहर के मसाला चौक और जी-टावर क्षेत्र जैसे अन्य फूड हब क्लस्टर को प्रमुखता दी जाएगी।

जयपुर में स्ट्रीट फूड की गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए उठाया जा रहा है ये कदम।

जयपुर में लोगों की सेहत को ध्यान में रखते हुए, स्वास्थ्य विभाग ने सुरक्षा और स्वच्छता के मानकों को पूरा करने वाले स्ट्रीट फूड वेंडर्स के समूह को ‘क्लीन स्ट्रीट फूड हब’ टैग देने का निर्णय लिया है। यह कदम पिंक सिटी के सभी फूड ज्वाइंट्स को सफाई बनाए रखने और लोगों को सेहत का ध्यान रखते हुए स्वच्छ खाना देने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए उठाया जा रहा है।

जयपुर में स्ट्रीट फूड हाइजीन के मानक तय किए जा रहे हैं

स्वास्थ्य विभाग ने जयपुर में विक्रेताओं को स्वच्छता के मानदंडों का पालन करने के लिए प्रशिक्षित करने का निर्णय लिया है। स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त निदेशक के अनुसार, अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने का काम सौंपा गया है कि खाद्य विक्रेता और हेल्पर्स व्यक्तिगत स्वच्छता के मानक को बनाए रखें।

प्रत्येक विक्रेता के लिए हाथ के दस्ताने और एप्रन का उपयोग करना अनिवार्य होगा। अधिकारियों को यह भी प्रमाणित करना होगा कि भोजनालयों के आस-पास के क्षेत्र साफ-सुथरे हैं। साथ ही सभी को पीने, खाना पकाने और साफ-सफाई के लिए साफ पानी की भी व्यवस्था की जाएगी।

पहले चरण में, स्वास्थ्य अधिकारियों ने कार्य योजना को आगे बढ़ाने के लिए शहर के मसाला चौक और जी-टावर क्षेत्र जैसे अन्य फूड हब क्लस्टर को प्रमुखता दी जाएगी। इस प्रशिक्षण के दौरान दुकानदारों को सिखाया जाएगा गुणवत्तापूर्ण और सुरक्षित भोजन के मानकों को कैसे बनाए रखा जाए।

स्वास्थ्य विभाग एडी को सूचित किया कि प्रत्येक भोजनालय जो सभी निर्धारित दिशानिर्देशों का पालन करता है, उसे ‘क्लीन स्ट्रीट फूड हब’ घोषित किया जाएगा। इस कदम से पिंक सिटी में खाने के शौकीन पर्यटकों को अपने पसंदीदा स्थानों पर साफ-सुथरे खाने का लाभ उठा पाएंगे।

जयपुर में स्थानीय और क्षेत्रीय व्यंजनों को मिलेगी बढ़ावा

कथित तौर पर, राजस्थान को ‘क्लीन स्ट्रीट फूड हब’ का दर्जा हासिल करने में मदद करने के लिए पूरी योजना को भारतीय फोड सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) द्वारा समर्थित किया जा रहा है। इससे संबंधित सभी दिशा-निर्देश पहले ही मौजूदा स्ट्रीट फूड इंफ्रास्ट्रक्चर को अपग्रेड करने की दृष्टि से जारी किए जा चुके हैं। विशेष रूप से, यह पहल पर्यटकों और स्थानीय लोगों को समान रूप से आकर्षित करते हुए, जयपुर के स्थानीय और क्षेत्रीय व्यंजनों को लोकप्रियता प्रदान करेगी।

– इनपुट: टीओआई

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *