राज्य में कोरोना वैक्सीन के स्टॉक को बढ़ाने के लिए राजस्थान प्रशासन विदेशी उत्पादकों से वैक्सीन प्राप्त करने का प्रयास करेगा। बड़ी मात्रा में वैक्सीन डोज़ की आवशयकता को देखते हुए यह उपाय किया जा रहा है। विदेशों से वैक्सीन आर्डर करके राज्य सरकार बड़े पैमाने पर 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए टीकाकरण ड्राइव जारी रख पाएगी। कथित तौर पर, राज्य में 18 से 44 वर्ष की आयु के 3.5 करोड़ लोगों का टीकाकरण करने के लिए 7 करोड़ टीकों की आवश्यकता है।

राज्य में टीकाकरण में तेज़ी लाने के लिए पहल


राज्य में टीकाकरण से संबंधित नवीनतम निर्णय को मुख्यमंत्री ने हाल ही में कैबिनेट की ऑनलाइन बैठक में मंजूरी दी थी। वर्तमान योजनाओं के अनुसार, यह उम्मीद है कि यह इम्पोर्ट प्रोग्राम लगभग 1 करोड़ वैक्सीन की उपलब्धि में मदद करेगा। राज्य के अधिकारी जल्द से जल्द इस प्रक्रिया को औपचारिक रूप देने की कोशिशों में लगे हुए हैं और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन को नोडल एजेंसी बनाकर जल्द ही एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (ईओआई) जल्द ही प्रदान किया जाएगा।

मीटिंग के दौरान मंत्रियों ने राज्य में बढ़ते हुए कोरोना संक्रमण के प्रति चिंता ज़ाहिर की और सभी लोग की राय यही थी की जल्द से जल्द वैक्सीन के स्टॉक को बढ़ाकर टीकाकरण अभियान में तेज़ी लानी चाहिए। इसके अलावा बैठक में सदस्यों ने 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के टीकाकरण पर ज़ोर डाला और यह भी घोषित किया गया की इस पर 3,000 करोड़ रुपये खर्च किये जाएंगे।

मुख्यमंत्री ने आने वाले त्योहारों में सावधानी रखने का अनुरोध किया


मुख्यमंत्री ने राजस्थान की जनता से अनुरोध किया है की वे सभी आवश्यक एहतियात बरतें और यह ध्यान रखें की आने वाले ईद और अक्षय तृतीया के त्यौहार पर सभी कोविड मानदंडों का सख्ती से पालन हो। राजस्थान में कोरोना के आंकड़ें लगातार बढ़ रहे हैं और बुधवार को 16,384 नए मामले दर्ज किये गए। उसी दिन 12,840 लोग रिकवर भी हुए और मौतों की संख्या 164 से बढ़ गयी। अभी तक राज्य में 8,05,658 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं और 2,09,110 सक्रीय मामले हैं।