राजस्थान में कोरोनो वायरस के बढ़ते खतरे के बीच, राज्य प्रशासन ने पूरे क्षेत्र में धारा 144 की अवधि को 21 जून तक बढ़ाने का फैसला किया है। दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 धारा 144 के तहत, एक स्थान पर 5 से अधिक लोगों के एकत्रित होने पर प्रतिबंध होता है, इससे समाजिक दूरी के मानदंडों को भी बढ़ावा मिलता है। इस आदेश को 22 अप्रैल को लागू किया गया था, इसकी अवधि 21 मई को समाप्त होने वाली थी। रिपोर्ट के अनुसार, राज्य ने लॉकडाउन प्रतिबंधों के विस्तार के साथ-साथ कार्यालयों और बाजारों को भी बंद करने का आदेश दिया है।

राजस्थान में लंबे समय तक रहेगा लॉकडाउन


राजस्थान में कोविड-19 को रोकने के लिए जयपुर और अन्य जिलों में सभी सेवाओं और बाजारों को बंद करने का आदेश दिया है। कथित तौर पर, केवल आवश्यक दुकानें और कार्यालय लॉकडाउन अवधि के दौरान खुलेंगे। अन्य सेवाओं, जैसे फलों और सब्जियों की बिक्री को भी शाम 7 बजे तक प्रतिबंधों के साथ अनुमति दी गई है। समाचार पत्र विक्रेताओं को सुबह 4 बजे से सुबह 8 बजे तक ही काम करने की अनुमति होगी। बाजार, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, सिनेमा हॉल और धार्मिक स्थल बंद रहेंगे। सभी शिक्षण संस्थान, कोचिंग सेंटर, पुस्तकालय, सामाजिक और राजनीतिक कार्यक्रम और ऐसे सभी अन्य कार्यक्रमों पर पाबंदी रहेगी।

दूसरी ओर, राज्य भर में सार्वजनिक परिवहन के सभी साधन चलते रहेंगे। सरकारी अधिकारियों, हवाई अड्डों, रेलवे स्टेशनों, बस स्टैंडों और मेट्रो स्टेशनों से आने-जाने वाले लोगों की आवाजाही पर कोई प्रतिबंध नहीं होगा। अन्य राज्यों से राजस्थान में आने वालों को प्रवेश की अनुमति तभी दी जाएगी जब वे यात्रा से 72 घंटे पहले की नेगेटिव कोविड आर टी- पीसीआर टेस्ट रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगे। इसी तरह, इलेक्ट्रॉनिक और प्रिंट मीडिया को उनके आईडी कार्ड के आधार लॉकडाउन प्रतिबंधों से छूट दी जाएगी। सभी फैक्ट्रियां और विनिर्माण इकाइयां भी चालू रहेंगी। श्रमिकों को नियमित रोजगार सुनिश्चित करने के लिए नरेगा (NREGA) परियोजनाएं भी जारी रहेंगी।

जयपुर में लगातार फैल रहा है कोरोना संक्रमण


राज्य की राजधानी जयपुर को कोरोनो वायरस हमले से सबसे अधिक नुकसान हुआ है, जिससे यह राजस्थान में सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्र बन गया है। बुधवार को, जिले में लगभग 2,338 नए मामले सामने आए हैं, जो कथित तौर पर राज्य में सबसे अधिक है। 37 लोगों की मृत्यु के साथ पिछले 24 घंटों में 4,167 लोगों के डिस्चार्ज होने से रिकवरी रेट में वृद्धि हुई है। जयपुर में वर्तमान में संक्रमण के 32,232 सक्रिय मामले हैं।