महामारी के चल रहे प्रभावों को देखते हुए राजस्थान सरकार ने घोषणा की है कि राज्य बोर्ड परीक्षा 10वीं और 12वीं कक्षा के लिए आयोजित नहीं की जाएगी। यह निर्णय केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा हाल ही में कक्षा 12 के छात्रों के लिए बोर्ड परीक्षा रद्द करने को देखते हुए लिया गया है। इस मुद्दे पर चर्चा के लिए राज्य के टॉप अधिकारियों की एक कैबिनेट बैठक बुलाई गयी, फिर अधिकारी इस नतीजे पर पहुंचे कि इस साल वार्षिक परीक्षाएं आयोजित नहीं की जाएंगी।

10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा के लिए 21.58 लाख छात्र पंजीकृत थे


लगातार दुसरे साल महामारी के कारण देश भर की शिक्षा की व्यवस्था पर बहुत अधिक असर पड़ा है। ऑफ़लाइन कक्षाओं की बहुत कम गुंजाइश और रुके हुए शैक्षणिक कार्यक्रमों के चलते बहुत अधिक छात्रों को चल रहे संकट और इसके फैलाव का खामियाजा भुगतना पड़ा। जैसा कि राजस्थान को दूसरी लहर के घातक प्रभावों के बीच अनलॉक करने के प्रयास किये जा रहे हैं, उसी समय कोरोना की अपेक्षित तीसरी लहर से भय का माहौल बना हुआ है।

राज्य के शिक्षा मंत्री ने कहा कि बोर्ड परीक्षाओं को रद्द करने का निर्णय, वर्तमान समय के हालातों को देखते हुए लिया गया है। आधिकारिक जानकारी के अनुसार, इस साल बोर्ड परीक्षा के लिए कुल 21.58 लाख आवेदन प्राप्त हुए थे। इनमें से 12 लाख बच्चे कक्षा 10 के छात्र हैं और 9.5 लाख छात्र कक्षा 12 में हैं। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि परिणाम के मानदंड अभी तक तय नहीं किए गए हैं।

जयपुर कोरोना अपडेट

लंबे समय तक प्रयास के बाद, नए मामलों की दैनिक गिनती अब कम होने लगी है। जयपुर में बुधवार को 241 नए संक्रमण और 1,888 लोग स्वस्थ हुए। 6,863 सक्रिय मामले हैं। जबकि 1,85,127 नागरिक अब तक वायरस से प्रभावित हुए हैं, कुल मिलाकर 1900 से अधिक मौतें दर्ज की गई हैं।