प्रतिष्ठित राजस्थान प्रशासनिक सेवा (आरएएस) परीक्षा के परिणाम मंगलवार रात घोषित किए गए। चयनित उम्मीदवारों में राजस्थान के जोधपुर जिले की एक महिला है, जो अपने परिवार के भरण-पोषण के लिए, शहर के नगर निगम में सफाई कर्मचारी के रूप में काम कर रहीं थी। हाल ही में अफसर बनने के अपने जीवन भर के सपने को साकार करते हुए, आशा कंडारा ने यह साबित किया है कि कड़ी मेहनत और लगन से कोई भी व्यक्ति ज़िंदगी में कोई भी मुकाम हासिल कर सकता है।

पूरे राजस्थान में 728वीं रैंक हासिल की


आशा कंडारा ने स्नातक होने के बाद राज्य प्रशासनिक सेवा परीक्षाओं की तैयारी शुरू कर दी थी और उनकी कड़ी मेहनत ने आखिरकर रंग दिखाया। जोधपुर नगर निगम (उत्तर) में एक सफाई कर्मचारी के रूप आरएएस अधिकारियों के कमरे साफ करते हुए उनके अफसर बनने के सपने को बढ़ावा मिला।

8 साल पहले अपने पति से अलग होने के बाद, कंडारा ने सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी शुरू की और साथ ही अपनी बेटी और बेटे की जिम्मेदारी संभाली। राज्य में 728वीं रैंक हासिल करने के बाद, उसने सभी बाधाओं व मुश्किलों को पार करते हुए आरएएस परीक्षा को सफलतापूर्वक पास कर लिया है, और अब उसे एक सफाई कर्मचारी के रूप में अपने कर्तव्यों से मुक्त कर दिया जाएगा।

कंडारा जोधपुर नगर निगम में लगभग 2 वर्षों से काम कर रही थीं, क्योंकि उन्हें अपने परिवार का आर्थिक रूप से समर्थन करना था। इस परीक्षा को पास करके उन्होंने कई महिलाओं के समक्ष एक उदाहरण प्रस्तुत किया है, और उनके जीवन में नई 'आशा' जगाई है।

-इनपुट: आईएएनएस