भारत में कोरोना संक्रमण के बीच राजस्थान ने अपने टीकाकरण ड्राइव में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की है। रिपोर्ट के अनुसार राजस्थान में हर पांच व्यक्तियों में से एक व्यक्ति कोविड वैक्सीन लगवा चुका है। इसका तात्पर्य यह है कि राज्य ने लगभग 20% लोगों के लिए कोरोना वैक्सीन का प्रबंधन करने में सफलता प्राप्त की है, जो भारत में अभी तक सबसे अधिक है।

राजस्थान में रिकवरी लगातार बढ़ रही है


चिकित्सा अधिकारियों ने यह बताया की 7 करोड़ योग्य लोगों में से 1.40 करोड़ लोगों को पिछले सप्ताह के अंत तक कोरोना का टीका लग चुका है। ये आंकड़ें मेडिकल स्टाफ की मेहनत और ढृढ़ निश्चय को बयान करते हैं जिन्होंने मेडिकल सप्लाई की कमी और बढ़ते हुए संक्रमण के डर के दौरान वैक्सीन ड्राइव को निरंतर जारी रखा।

इसी बीच राजस्थान में लगातार आ रहे सक्रीय कोरोना मामले परेशानी का कारण बने हुए हैं। इस समय राजस्थान सक्रीय कोरोना मामलों की संख्या में भारत में पांचवें नंबर हैं। इस समय सक्रीय मामले 2.03 लाख से ज़्यादा हैं। हालाँकि रिकवरी रेट में वृद्धि होने से राहत मिली है। पिछले दो सप्ताह में रिकवरी रेट 71% से 73% तक बढ़ गया है।

कोरोना अपडेट

पिछले 24 घंटों में 16,487 नए मामले आये हैं और 13,4999 लोग रिकवर हुए हैं जिससे सक्रीय मामलों की संख्या 2,828 हो गयी है। दूसरी ओर सोमवार शाम को कोरोना से 5,825 लोगों की जान चली गयी। यहां, राज्य के कोरोना आकड़ों में सबसे अधिक हिस्सा जयपुर का है। जबकि सोमवार को एक ही दिन में 2,918 नए संक्रमणों से शहर के केसलोड में वृद्धि हुई, वहीं 2,893 लोग रिकवर होकर डिस्चार्ज हो गए। इसके अतिरिक्त, 61 लोगों की वायरस से जान गयी।