दो दिन के अंतराल के बाद राजस्थान के टीकाकरण अभियान ने एक बार फिर रफ्तार पकड़ ली है। रिपोर्ट के अनुसार, सोमवार को राज्य को 8.35 लाख कोविशील्ड खुराक की खेप मिली, जो कि 4 दिनों तक सफल रूप से टीकाकरण कार्यक्रम चलाने के लिए पर्याप्त है। जयपुर सहित राजस्थान के कई प्रमुख जिलों में खुराक वितरित की गई, जहां उन्हें 70 से अधिक केंद्रों पर प्रशासित किया जाएगा।

राजस्थान में टीके की मदद से लड़ी जा रही है कोरोना के खिलाफ जंग




राजस्थान में सोमवार को कोविशिल्ड खेप की डिलीवरी के साथ, राज्य के प्रमुख जिलों, विशेष रूप से जयपुर में कोविड टीकाकरण अभियान का तेजी से विस्तार होने जा रहा है। रिपोर्ट के अनुसार, पिंक सिटी में लगभग 70 टीकाकरण स्थल सक्रिय रूप से कोविड वैक्सीन लगाएंगे।

राज्य में संसाधनों की कमी के मद्देनजर टीकाकरण कार्यक्रम की रफ्तार धीमी पड़ गई थी, जिसके चलते सोमवार को केवल 34,834 लोगों को वैक्सीन दी गई है। अजमेर, बाड़मेर, भीलवाड़ा, बीकानेर, बूंदी, चित्तौड़गढ़, दौसा, धौलपुर, जैसलमेर, झुंझुनू, नागौर, पाली, प्रतापगढ़ और सीकर जैसे लगभग 14 जिलों में कल एक भी टीका नहीं लगाया गया। लगभग 80% टीकाकरण स्थल यहां बंद रहे।

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट में बताया गया है कि जनवरी 2021 से अब तक राजस्थान में कुल 2,64,49,174 वैक्सीन डोज़ दी जा चुकी हैं, यह संख्या 28.1 प्रतिशत आबादी के बराबर है, जिन्हें कम से कम टीके की पहली डोज़ लगा दी गई है। इसमें से 6.1% लोग ऐसे हैं जिन्हें टीके की दोनो डोज़ लगाई जा चुकी हैं। डेटा रिकॉर्ड से पता चलता है कि 60 से अधिक आयु वर्ग में लगभग टीके की 81.76 लाख खुराक लगाई गई हैं, सबसे अधिक 98.63 लाख खुराकें, 18 से 44 वर्ष की आयु के लोगों को और 84.09 लाख 45-60 आयु वर्ग के लोगों को दी गई हैं।