मौसम विभाग ने भविष्‍यवाणी की है कि चक्रवात 'तौकते' के प्रभाव से आज जयपुर डिवीज़न में भारी बारिश होगी और दक्षिणी राजस्थान के जालोर, सिरोही, उदयपुर, पाली, डूंगरपुर, चित्तौड़गढ़ और राजसमंद जिले भी तूफान की राडार में हैं। प्रशासन ने राज्य के दक्षिणी और पश्चिमी क्षेत्र में राज्य आपदा राहत बल (एसडीआरएफ) और पुलिस कर्मियों को भीषण तूफान के प्रकोप से होने वाली संभावित समस्याओं को हल करने के लिए तैनात किया है।

दक्षिणी राजस्थान पर बरसेगा तौकते तूफान का कहर


चक्रवाती तूफ़ान के चलते राजस्थान के कई हिस्सों में तेज हवाएं और भारी बारिश होगी। आईएमडी अलर्ट और चक्रवात के तेजी से बदलते हुए रुखों को देखते हुए एसडीआरएफ ने जोधपुर और उदयपुर रेंज के पुलिस महानिरीक्षकों (आईजी) को सिरोही, डूंगरपुर, जालोर और बांसवाड़ा में स्थिति की निगरानी करने के लिए कहा है।

हाई रिस्क दक्षिणी ज़ोन के अलावा पाली और अन्य क्षेत्रों में जहां तूफ़ान के भारी प्रभावों की संभावना है वहां भी राज्य पुलिस की विभिन्न टीमें तैनात की गयी हैं। इसी तरह रानीवाड़ा, भीनमाल और माउंट आबू में भी रेस्क्यू ट्राम लगाई गई हैं। यहां चक्रवात के खतरे को दूर करने के लिए अन्य आपदा राहत प्रावधान भी स्थापित किए गए हैं।

मंगलवार को तौकते चक्रवात के चलते राजस्थान के अनेक क्षेत्रों में जहां बगिलवाड़ा में सबसे अधिक 50 मिमी बारिश दर्ज की गई। पिछले 24 घंटों में चित्तौड़गढ़ (25 मिमी), डबोक (20.6 मिमी), वनस्थली (20 मिमी), सवाई माधोपुर (16 मिमी), बूंदी (14 मिमी) और अजमेर (11.8 मिमी) जैसे अन्य क्षेत्रों में भी बारिश हुई। मौसम विभाग के रीजनल डायरेक्टर ने कहा है कि राजस्थान में 20 मई तक चक्रवात का असर हल्का होगा।