1 मई से 18 वर्ष से ऊपर के सभी व्यक्तियों के लिए कोविड टीकाकरण अभियान शुरू करने के बाद, राजस्थान प्रशासन इस व्यापक कार्यक्रम के कार्यान्वयन के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं। कथित तौर पर, मंगलवार को राज्य के 33 जिलों में पहली बार 18 साल से उपर के नागरिकों के लिए टीकाकरण अभियान देखा गया। रिकॉर्ड के अनुसार 2,36,065 इम्यूनिटी बूस्टर टीके राज्य के निवासियों को दिए गए थे और रिपोर्ट के अनुसार, इनमें से 79,000 से अधिक टीके 18-44 आयु वर्ग के लाभार्थियों को दिए गए थे।

राज्य में अभी तक 1.45 करोड़ से अधिक वैक्सीन की खुराक नागरिकों को दी जा चुकी है


राज्य में अब तक कुल 1,45,24,097 वैक्सीन के डोज़ लोगों को दिए गए हैं और बड़ी संख्या में लाभार्थियों ने टीकाकरण की पूरी प्रक्रिया को पूरा किया है। सभी प्राप्तकर्ताओं में से 5 लाख से अधिक व्यक्ति 18-44 वर्ष की आयु वर्ग में आते हैं जिन्होंने पिछले 11 दिनों में सफलतापूर्वक अपना पहला डोज़ प्राप्त किया है। कथित तौर पर, राज्य में टीकाकरण की निगरानी करने वाले एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि राज्य को नवीनतम श्रेणी में लगभग 3.5 करोड़ व्यक्तियों को सम्मिलित करने के लिए कुल 7 करोड़ वैक्सीन की आवश्यकता होगी।

चूंकि टीका से जुड़े हुए मिथक और भ्रांतियां धीरे-धीरे कम हो रही हैं, इसलिए टीकाकरण का लाभ उठाने के लिए नागरिकों की संख्या में रोजाना बढ़ोत्तरी हो रही है। राज्य में टीकाकरण के कार्यक्रम में 11 मई एक विशेष दिन था, क्योंकि यह पहली बार था जब राजस्थान के सभी जिलों में 18-44 साल के उम्र के व्यक्तियों को टीका लगाया गया था।

कोरोना की दूसरी लहर के बीच जयपुर में टीकाकरण की रफ्तार धीमी पड़ी

अप्रैल के शुरुआती दिनों में लगभग 75000 के अधिकतम आकड़े को छूने के बाद जयपुर में दैनिक टीकाकरण की दर में गिरावट आई है, और अब यह आंकड़ा पिछले दो सप्ताह से अधिक समय से लगातार 30000 से नीचे पहुंच गया है। नतीजतन, अधिकारी जल्द ही खुराक के एक बड़े बैच को खरीदने की कोशिश कर रहे हैं ताकि आबादी के एक बड़े भाग को जल्द से जल्द टीका लगाया जा सके। जयपुर में अब तक कुल 15,13,524 खुराकें दी जा चुकी है।