जयपुर के नाहरगढ़ लॉयन सफारी में त्रिपुर (Tripur) नाम का एक शेर कोरोना पॉजिटिव पाया गया जबकि कुछ अन्य जानवरों की रिपोर्ट संदिग्ध थी। रिपोर्ट के अनुसार, चिड़ियाघर से 13 जानवरों के सैंपल लिए गए थे, जिनमें से एक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इन 13 जानवरों में एक पैंथर, एक सफेद बाघ और एक शेरनी शामिल थे। इन नमूनों को भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान में भेजा गया था जहां इसकी पुष्टि की गई थी। जिन पशुओं की रिपोर्ट संदिग्ध है, उनके सैंपल टेस्ट के लिए दोबारा लिए जाएंगे।

कोरोना का खतरा अब जानवरों पर भी मंडरा रहा है


राजधानी जयपुर स्थित नाहरगढ़ के लायन सफारी में अन्य जानवरों के साथ तीन शेरों, तीन बाघों और एक पैंथर के नमूनों को आईवीआरआई यानी भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान में भेजा गया था ताकि उनमें कोरोनो वायरस की जांच की जा सके। इनमें से एक शेर कोरोना पॉजिटिव पाया गया, इसके अलावा एक अन्य शेर और सफेद बाघ का सैम्पल संदिग्ध मिला, इन दोनों में लक्षण तो हैं लेकिन सैम्पल की जांच से उसकी पुष्टि नहीं हुई है, इसके चलते शोध के संयुक्त निदेशक के.पी. सिंह ने इनके सैंपल की दोबारा मांग की है।

अब कोरोना का खतरा पशुओं पर भी मंडरा रहा है और इस घातक बिमारी से हाल ही में जयपुर के चिड़ियाघर में एक शेर और यूपी के इटावा सफारी पार्क में दो शेरनियों को संक्रमित पाया गया है। आईवीआरआई के अधिकारियों ने निष्कर्ष निकाला है कि यह वायरस जानवरों तक संक्रमित इंसानों से पहुंचा होगा जिनमें लक्षण नहीं दिख रहे थे। शोध संस्थान ने इन जूलॉजिकल सेंटरों और सफारी पार्कों से संक्रमित जानवरों को अन्य जानवरों से अलग रखने के लिए कहा है।

सीएसआईआर-सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी ने सूचित किया था कि हैदराबाद चिड़ियाघर में आठ एशियाई शेर भी कोविड पॉजिटिव पाए गए हैं। इस बीच, पंजाब के छब्बीर चिड़ियाघर में से तीन बाघ, एक सिवेट बिल्ली, एक काले हिरन समेत 8 पशुओं के सैंपल लिए गए हैं।