अपने सक्रीय दृष्टिकोण और महत्वाकांक्षी योजनाओं के साथ राजस्थान ने केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय द्वारा प्रकाशित स्मार्ट सिटी मिशन रैंकिंग में दूसरा स्थान प्राप्त किया है। 36 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में किए गए एक सर्वे के बीच, राजस्थान ने एक साल में 29वें से दूसरे स्थान पर पहुंचकर एक महत्वपूर्ण जीत हासिल की है। रिपोर्ट के अनुसार राजस्थान के जयपुर समेत 4 जिलों को टॉप 100 शहरों में जगह मिली है।.

जयपुर ने हासिल किया 36वां स्थान


कथित तौर पर राजस्थान के जयपुर, उदयपुर, कोटा और अजमेर इन 4 शहरों ने टॉप 100 में अपनी जगह बनायीं है। जयपुर ने 36वां स्थान और उदयपुर कोटा और अजमेर ने 8वां,11वां और 29वां स्थान हासिल किया है। विकासवादी इंडीकेटर्स की रेंज में विभिन्न शहरों के प्रदर्शन को देखते हुए ये रैंक सौंपी गयी है और इन इंडीकेटर्स में स्मार्ट सिटी परियोजनाओं का निष्पादन, विभिन्न क्षेत्रों में काम जारी रखना और प्रस्तावित टेंडरों की संख्या शामिल हैं।

इसके अलावा महत्वपूर्ण पैरामीटरों में सामाजिक ढांचे में किस प्रकार से निवेश किया जा रहा है और फंड्स का किस प्रकार प्रयोग किया जा रहा है,ये भी शामिल हैं। हालांकि स्मार्ट सिटी मिशन को देश भर के विकास के स्तरों को बेहतर करने के उद्देश्य से शुरू किया गया था लेकिन कुछ शहरों ने वास्तव में सर्वोत्तम प्रदर्शन दिखाकर अपना एक विशेष स्टैण्डर्ड सेट किया है।

4 शहरों की परियोजनाओं ने वर्तमान उपलब्धि हासिल करने में की सहायता


रिपोर्ट के अनुसार स्मार्ट सिटी मिशन के अंतर्गत इन 4 शहरों में 1,500 करोड़ से अधिक की विभिन्न परियोजनाएं देखी गयी हैं। इसके अलावा कई परियोजनाओं पर 4000 करोड़ खर्च किये जा रहे हैं जिनमें से कुछ निष्पादित हो चुकी हैं, कुछ चल रही हैं और कुछ अभी शुरू होनी हैं। प्रगति के पैमाने को देखते हुए, 4 शहरों ने शानदार सूची में अपना रास्ता बनाने में जीत हासिल की है, और राज्य को वर्तमान रैंक को हासिल करने में भी पूरी मदद की है।