तीनों विंगों के प्रयासों के माध्यम से भारतीय सशक्त बलों ने देश में चल रहे संकट को कम करने के लिए कई प्रकार से सहयोग किया है। भारतीय सेना ने कई प्रयासों के ज़रिये राजस्थान को महामारी से लड़ने में मदद की है। श्री गंगानगर में 50 बिस्तरों की सुविधा स्थापित करने से लेकर बाड़मेर में राशन किटों को बांटने तक भारतीय सेना लगातार सामाजिक और मेडिकल आवश्यकताओं के सभी क्षेत्रों में व्यापक कार्यक्रमों पर काम कर रही हैं।

श्री गंगानगर में कोरोना मरीज़ों के लिए विभिन्न सुविधाओं का सेंटर



श्री गंगानगर में बढ़ते हुए कोरोना मामलों को देखते हुए भारतीय सेना के सुदर्शन चक्र डिवीज़न ने वहां 50 बेडों की कोविड केयर सुविधा तैयार की है। ये एल-2 कोविड केयर सेंटर आस पास के सभी जिलों के लोगों को ऑक्सीजन सपोर्ट सहित कई प्रकार की मेडिकल सहायता प्रदान करेगा। इस नवीनतम केंद्र का उद्घाटन शुक्रवार को श्री गंगानगर के डीएम जाकिर हुसैन ने किया।

लेफ्टिनेंट कर्नल अमिताभ शर्मा, पीआरओ रक्षा, राजस्थान ने बताया कि जिला अधिकारियों और जन सेवा अस्पताल के सहयोग से सेना के डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ के प्रयासों से केंद्र की स्थापना की गई है। ट्रेंड मेडिकल स्टाफ और आवश्यक उपकरणों के अलावा, भारतीय सेना ने एम्बुलेंस सेवाएं भी प्रदान की हैं। यह कहा गया है कि प्रवेश जिला प्रशासन और जन सेवा अस्पताल सहित एक प्रक्रिया के माध्यम से किया जाएगा।

बाड़मेर के लोक कलाकारों को मुफ्त राशन प्रदान किया गया



एक और कल्याणकारी पहल में कोणार्क कोर के दक्षिणी कमांड जिसका मुख्यालय जोधपुर में है वे बाड़मेर के लोक कलाकारों के लिए राशन वितरण अभियान चला रहे हैं और गुरूवार को अपनी पहल के दायरे को बढ़ाते हुए बाड़मेर की श्यो तहसील के नीमला गाँव के 25 परिवारों को इसमें शामिल किया और हर परिवार को 25-30 सूखा राशन बांटा जिसमें आंटा,चावल,दाल,चीनी तेल सब शामिल था। इसके अलावा मास्क और सैनिटाइज़र भी वितरित किये गए।

लॉकडाउन और सभी सामाजिक समारोहों पर प्रतिबन्ध लगने के कारण लोक कलाकारों का जीवन बहुत संकटों से होकर गुज़र रहा है। कलाकारों के एक एनजीओ "प्रगति लोक कल्याण विकास संस्थान" ने सहायता के लिए कोणार्क कोर से संपर्क किया और उन्होंने तुरंत मदद का हाँथ बढ़ाया। महामारी के पहले वर्ष 2020 में भी इसी तरह की पहल पर काम किया गया था।

इसके अलावा भारतीय सेना ने नागरिकों के लिए एक ऑनलाइन ओपीडी शुरू की है जिसमें राजस्थान के दूर दराज़ में रह रहे लोग http://eSanjeevaniopd.in पर लॉगिन करके एएफएमएस के डॉक्टरों से मेडिकल सहायता प्राप्त कर सकते हैं।