पिंक सिटी में हरियाली का विस्तार करने के लिए, जयपुर विकास प्राधिकरण (जेडीए) लोहामंडी योजना में खुली जगहों को इस्तेमाल करने पर विचार कर रहा है। यह परियोजना शहर में अपनी तरह की पहली परियोजना होने के साथ, शहर में एक कमर्शियल स्कीम के तहत प्रथम पार्क स्थापित करने के रास्ते खोल देगी। रिपोर्ट के अनुसार 13.50 लाख वर्ग मीटर योजना में लगभग 6 पार्कों को स्थापित करने के लिए 1.40 लाख वर्ग मीटर क्षेत्र निर्धारित किया गया है। 

लोहामंडी योजना में नए पार्क और हरित मार्ग का निर्माण

जयपुर में प्रदूषण कम करने के लिए हरित स्थानों (green spaces) की स्थापना को बढ़ावा दिया जा रहा है। इस बात पर प्रकाश डाला गया है कि शहर में 10% से भी कम क्षेत्र हरित हैं, जो कि 2025 के मास्टर प्लान में उल्लिखित अनिवार्य 20% क्षेत्र से काफी कम है। जेडीए को इन आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए शामिल किया गया है और पहले, यह वुडलैंड पार्क विकसित करने और यहां पेड़ लगाने की योजना बना रहा था। हालांकि, असंतोषजनक परिणामों के मद्देनजर योजना को जल्द ही खारिज कर दिया गया था।

इन आदेशों के अनुसार, दिल्ली, सीकर और आगरा से आने वाली सड़कों पर भी ग्रान कॉरिडोर होना चाहिए था, जो मार्ग के दोनों ओर कम से कम 30-45 मीटर तक फैला हो। रिपोर्ट के अनुसार, हालांकि, जमीन की कमी के कारण योजना को आगे नहीं बढ़ाया जा सका।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *