शहर में मौजूदा हेल्थकेयर इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार के लिए, जयपुरिया अस्पताल ने जयपुर सिटीजन फोरम और मोटिवेशन इंडिया के सहयोग से प्रोजेक्ट जेसीएफ विराज लॉन्च किया है। इस अनूठी परियोजना के तहत, राज्य द्वारा संचालित अस्पताल ने जयपुर का पहला व्हीलचेयर क्लिनिक शुरू किया है। इस परियोजना का उद्देश्य, विकलांग लोगों को उनकी ज़रूरत और सहूलियत के हिसाब व्हीलचेयर उपलब्ध करवाना है। विशेष रूप से, अपनी तरह का पहला व्हीलचेयर क्लिनिक विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा निर्धारित दिशानिर्देशों के अनुसार बनाया गया है।

अगले तीन वर्षों में, 600 लोगों को सही व्हीलचेयर प्रदान करेगी यह परियोजना

2011 की जनगणना के अनुसार, अकेले शहरी जयपुर में 6900 से अधिक गतिशीलता-विकलांग लोग हैं, जिनमें से कम से कम 20% को व्हीलचेयर की आवश्यकता होती है। सही व्हीलचेयर के बिना, इन लोगों को चलने-फिरने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है, जिससे उनके रोजमर्रा के काम में बाधा उत्पन्न होती है। अधिकारियों के अनुसार, अगले तीन वर्षों में, सरकार द्वारा संचालित इस अस्पताल का लक्ष्य बच्चों और वयस्कों सहित 600 लोगों को सही व्हीलचेयर प्रदान करके उनकी मदद करना है।

क्या है व्हीलचेयर क्लीनिक?

इनपुट: टीओआई

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *