राजस्थान के पर्यटन विभाग और उदयपुर स्थित स्काईलाइन सर्विसेज ने साथ मिलकर नागरिकों के लिए विशेष हेलीकॉप्टर सेवाएं शुरू करने का फैसला किया है। रिपोर्ट के अनुसार, राज्य विधानसभा अध्यक्ष डॉ सीपी जोशी द्वारा रविवार को एक आभासी समारोह में मनोरंजक परिवहन सुविधा का शुभारंभ किया गया। हेलीकॉप्टर की सवारी नाथद्वारा और कुंभलगढ़ से यात्रा करने वाले पर्यटकों को केवल 10 मिनट में एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुँचाने का अनुभव प्रदान करेगी।

मनोरंजन और सुविधा को बढ़ावा देगी हेलीकॉप्टर सुविधा

राजस्थान में पर्यटन उद्योग को फिर से शुरू करने के लिए, कोरोनवायरस की दूसरी लहर के बाद, यहां विशेष हेलीकॉप्टर सेवाएं शुरू की गई हैं। पहले चरण में केवल नाथद्वारा और कुंभलगढ़ रूट पर ही एयरो राइड (aero rides) संचालित होंगी। इस सुविधा की सफलता के आधार पर राजसमंद और उदयपुर के बीच भी इसी तरह की सेवाएं शुरू की जाएंगी। स्काईलाइन सर्विसेज के अनुसार, सुविधा को शानदार प्रतिक्रिया मिली, क्योंकि नाथद्वारा के लिए 125 और कुंभलगढ़ के लिए 150 सवारी रविवार को लॉन्च से पहले ही बुक कर ली गई थी।

स्काईलाइन के केंद्र प्रभारी जेपी शर्मा के अनुसार, सवारी न केवल मनोरंजन का एक तरीका है, बल्कि सुविधा भी है, जिससे नाथद्वारा और कुंभलगढ़ के बीच यात्रा का समय केवल 10 मिनट हो जाता है। उन्होंने कहा कि एक बार में लगभग 3 लोग हेलीकॉप्टर की सवारी कर सकते हैं।

अन्य पर्यटन स्थलों पर और सेवाएं शुरू करने की भी योजना पर काम चल रहा है। कुम्भलगढ़ के कुंभ महल हेरिटेज रिजॉर्ट से हेलीकॉप्टर की चढ़ाई ₹4,999 में चिह्नित की गई है और नाथद्वारा के शिव मंदिर की सवारी में केवल ₹3,999 का खर्च आएगा।

‘रेगिस्तानी राज्य’ में आने वाले पर्यटकों के लिए बढ़ीं सुविधाएं

पर्यटन और आतिथ्य उद्योगों को कोरोनोवायरस महामारी के सबसे अधिक नुकसान का सामना करना पड़ा है और नई हेलीकॉप्टर-सवारी पर्यटकों को वापस रेगिस्तानी राज्य में आकर्षित करने का मदद करेंगी। सेवाओं का उद्देश्य पर्यटकों के लिए कुछ नया और रोमांचक पेश करके राजस्थान पर्यटन को पुनर्स्थापित करना है। राजस्थान में एक शाही दौरे के साहसिक भाग को उजागर करते हुए, ‘हेलीकॉप्टर पर्यटन’ से लोगों की संख्या में वृद्धि होने की उम्मीद है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *