जयपुर में सवाई मानसिंह स्टेडियम, भारत और विदेशों में सबसे प्रमुख हॉकी केंद्रों में से एक के रूप में चिन्हित होने के लिए तैयार है। रिपोर्ट के मुताबिक, इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ हॉकी (FIH) ने इसे अंतरराष्ट्रीय मैचों के आयोजन के लिए मंजूरी दे दी है। नतीजतन, केंद्र जल्द ही एक बार प्रमाण पत्र जारी होने के बाद वैश्विक स्तर पर टूर्नामेंट की मेजबानी करेगा।

एसएमएस स्टेडियम में नया एस्ट्रोटर्फ फील्ड

केंद्र को वैश्विक मानकों के अनुरूप तैयार करने के लिए जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम में ₹4 करोड़ की धनराशि खर्च की गयी है। अन्य सुविधाओं के अलावा यहां एक नया एस्ट्रोटर्फ तैयार किया गया है। स्पोर्ट्स काउंसिल के कोच प्रशांत ने बताया कि इस नए एस्ट्रोटर्फ के कारण खिलाड़ियों की एक नई पीढ़ी को आकर्षित किया है। लड़के और लड़कियों दोनों सहित लगभग 40-50 छात्र अब दोनों पालियों के दौरान स्टेडियम में अभ्यास करते हैं।

यह भी ध्यान दिया जा सकता है कि यहां के पुराने मैदान को नहीं छोड़ा गया था। बल्कि, इसे पलट दिया गया है और एक अलग क्षेत्र में बना दिया गया है, जिसका उपयोग नए खिलाड़ी प्रैक्टिस के लिए करते हैं। वर्तमान में, राजस्थान में केवल 3 जिलों में जयपुर, अजमेर और उदयपुर एस्ट्रोटर्फ क्षेत्र हैं। यह मुख्य रूप से इसलिए है क्योंकि इन केंद्रों पर ट्रेनिंग की निगरानी खेल परिषद के प्रशिक्षकों द्वारा की जाती है।

कोटा, अलवर, भीलवाड़ा, जोधपुर और बीकानेर केंद्रों में कम से कम घास के मैदान स्थापित करने का प्रस्ताव भी उठाया गया है। इन क्षेत्रों में हॉकी का अधिक लोकप्रियता है और प्रैक्टिस के लिए उचित संसाधन युवा प्रतिभाओं को प्रेरित कर सकते हैं।

एसएमएस स्टेडियम में सुधार की गुंजाइश

हालांकि, एसएमएस स्टेडियम में और सुधार की गुंजाइश और जरूरत है। अकादमी को वैश्विक खेल केंद्र के रूप में प्रस्तुत करने के लिए लड़कों और लड़कियों के लिए नए चेंजिंग रूम, वॉशरूम और कोचिंग के लिए हॉल की आवश्यकता है। राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के टूर्नामेंट में राजस्थान से स्थानीय प्रतिभा को बढ़ावा देने के लिए कोचों और सलाहकारों की भर्ती भी आवश्यक है।

एसएमएस स्टेडियम ने सुजीत कुमार की सेवाएं आमंत्रित की हैं, जो पिछले साल तक अंतरराष्ट्रीय स्तर के हॉकी खिलाड़ी थे। इसे अब तक खिलाड़ियों के बीच सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है। आने वाले समय में इसका असर अन्य खेलों पर भी पड़ने वाला है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *