राष्ट्रीय स्वच्छ भारत अभियान के साथ आगे बढ़ते हुए, जयपुर के जालसू पंचायत समिति के जाहोता गांव ने ‘खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) प्लस’ की श्रेणी में स्थान प्राप्त किया। कथित तौर पर, केंद्र सरकार के अधिकारियों की एक टीम द्वारा गुरुवार को ठोस और तरल कचरा प्रबंधन का सर्वेक्षण करने के बाद, गांव को यह उपलब्धि मिली। स्वच्छता के स्तर को ध्यान में रखते हुए, अधिकारियों ने गांव को ओडीएफ प्लस का दर्जा दिया, जिससे यह राज्य में अपनी तरह का पहला गांव बन गया।

व्यापक प्रयासों से मिली यह उपलब्धता

रिपोर्ट के अनुसार, ओडीएफ प्लस स्वच्छ भारत मिशन के तहत केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई ओडीएफ योजना का विस्तार है। इसका उद्देश्य ओडीएफ इलाके को खुले में शौच मुक्त रखने के अलावा उचित ठोस और तरल कचरा प्रबंधन प्रणाली को बढ़ावा देना है। कथित तौर पर, जाहोता ग्राम पंचायत के समक्ष ग्राम पंचायत को ओडीएफ प्लस घोषित किए जाने का प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित किया गया। इसके अलावा, यह उल्लेखनीय है कि यह कदम केंद्र सरकार के अधिकारियों द्वारा की गई जांच और विश्लेषण से प्रेरित था।

पंचायत अधिकारियों ने अवगत कराया कि व्यापक और सावधानीपूर्वक अपशिष्ट प्रबंधन के लिए प्रयास पिछले 10 महीनों से प्रयास किए जा रहे हैं। नागरिकों के सहयोग के साथ गाँव को स्वच्छ बनाने में कई पहल मददगार साबित हुई हैं।

नॉक-नॉक 

स्वच्छ भारत अभियान देश की स्वच्छता और स्वच्छता की स्थिति में सुधार की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम साबित हुआ है, और लोगों में जागरूकता के साथ ही आगे की प्रगति सुनिश्चित की जा सकती है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि हम अपने आस-पास के इलाके को स्वच्छ बनाए रखने में अपना योगदान दें, और दूसरे लोगों को भी शिक्षित करें।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *