एक ऐतिहासिक क्षण में, जयपुर हवाई अड्डे पर सीएसआईएफ टीम के पहले डॉग स्क्वॉड के 6 कुत्ते, एक दशक की सेवा के बाद आखिककार रिटायर हो गए।  इस स्क्वॉड को 2012 में खोजी के रूप में तैनात किया गया था, और इस कार्यकाल के दौरान उन्होंने अपने नाम कई सम्मान हासिल किए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, उनके बदले अब 5 नए कुत्तों को इस स्क्वॉड में शामिल किया गया है। 

जयपुर एयरपोर्ट के डॉग स्क्वॉड के लिए रिटायरमेंट पार्टी रखी गई

10 वर्षों के कार्यकाल के दौरान अपनी सेवाएं देते हुए, बारियो, एडिसन, बेन्सन, ज़ेना, क्रिसी और एडेना नामक इन डॉग्स के रिटायरमेंट पर सीएसआईएफ यूनिट लाइन में एक  समारोह का आयोजन किया गया। ये सभी 6 कुत्ते लैब्राडोर हैं, जिनका जन्म 2011 में  हुआ था। इन्हें प्रशिक्षण केंद्र पर प्रशिक्षित किया गया, और ये सभी 2012 में जयपुर हवाई अड्डे पर सीएसआईएफ के पहले कैनाइन फोर्स के रूप में ड्यूटी पर तैनात थे।

इन्होंने गणतंत्र दिवस परेड में भाग लिया है और प्रतिबंधित पदार्थों को सूँघने के अलावा श्रीनगर हवाई अड्डे पर भी सेवा दी है। व्यक्तिगत रूप से, बैरियो ने 2019 में अखिल भारतीय पुलिस बैठक में भाग लिया, जबकि एडेना उसी वर्ष आरटीसी बहरोड़ में एक अंतर-क्षेत्रीय प्रतियोगिता में भाग लिया। इसे फरवरी 202 से जनवरी 2021 तक श्रीनगर हवाई अड्डे पर सुरक्षा ड्यूटी पर भी तैनात किया गया था। बेन्सन 70वें गणतंत्र दिवस पर नई दिल्ली परेड का हिस्सा थे।.

इन डॉग्स को मिलता है 11000 रुपये का मासिक वेतन

सीएसआईएफ डॉग स्क्वायड आमतौर पर एक दशक तक काम करता है, जिसके दौरान उनकी मासिक वेतन ₹11,000 होती है, जिसका उपयोग उनके रखरखाव के लिए किया जाता है। इनमें से कुछ कुत्तों की सर्विस की अवधि एक वर्ष तक बढ़ाई जा सकती है, जब तक कि उनकी जगह किसी और को तैनात नहीं किया जाता है। रिटायरमेंट के बाद इनकी निलामी की जाएगी, लोग इन्हें अपने घर ले जाकर इनकी देखभाल कर सकते हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, इनके स्थान पर अब 5 नए लैब्राडोर डॉग्स प्रिंस, मैक्स, ब्रिटो, रॉकी और मॉली सुरक्षा के लिए तैनात किए गए हैं। । इन्हें रांची के सीएसआईएफ डॉग ट्रेनिंग सेंटर में प्रशिक्षित किया गया है। इन सभी का जन्म 2020 में हुआ था और इनकी उम्र करीब 6 महीने है। कैनाइन दस्ता जयपुर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के सुरक्षा टीम का हिस्सा होगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *