वन एवं पर्यावरण विभाग द्वारा राजस्थान में नई इको टूरिज्म पॉलिसी-2021 लागू की जा रही है, जिसका उद्देश्य राज्य में पर्यटन उद्योग को बढ़ावा देना है। पर्यटक उद्योग को बढ़ावा देकर राजस्व में वृद्धि करने के अलावा, यह नई नीति राज्य के निवासियों के लिए रोजगार के अवसर भी पैदा करेगी। 

पर्यावरण के अनुकूल गतिविधियों को बढ़ावा दिया जाएगा

वन एवं पर्यावरण राज्य मंत्री ने ट्वीट करके बताया कि, “राजस्थान की सांस्कृतिक, ऎतिहासिक, भौगोलिक और पारिस्थितिकीय विविधताओं के कारण प्रदेश की अर्थव्यवस्था में पर्यटन उद्योग का बड़ा महत्व है। सामान्य पर्यटन के साथ-साथ इको टूरिज्म को प्रोत्साहित कर न सिर्फ पर्यटन उद्योग को बढ़ाया जा सकता है बल्कि प्रदेशवासियों के लिए रोजगार के अनन्य अवसर भी प्राप्त किए जा सकते हैं। इसके साथ ही प्रदेश की जैव विविधता, वन और वन्य जीव संरक्षण में भी प्रदेशवासियों की सहभागिता को सुनिश्चित किया जा सकता है।”

उन्होंने आगे बताया कि, पिछले वर्षों में और इको टूरिज्म परिदृश्य में व्यापक बदलाव आने की वजह से नई संभावनाएं उत्पन्न हुई हैं। इको टूरिज्म क्षेत्र में किए गए सीमित कार्यों के उत्साहवर्धक परिणाम भी सामने आए हैं। इन्ही को ध्यान में रखते हुए राजस्थान में नई इको टूरिज्म पॉलिसी-2021 को और भी अधिक प्रभावी बनाकर जारी किया जा रहा है। नई नीति में ट्रैकिंग, बर्ड वाचिंग, हाइकिंग, बोटिंग ओवर नाइट कैंपिंग, सफारी, साईकिलिंग सहित पर्यावरण एवं पारिस्थितिकीय संरक्षण के अनुकूल सभी प्रकार की गतिविधियों को शामिल किया गया है।

पूरे राजस्थान में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हुई

भारत के अधिकांश राज्यों में अनलॉक प्रक्रिया शुरू होने के साथ, राजस्थान सरकार अब पर्यटकों का स्वागत कर रही है, और सप्ताहांत कर्फ्यू में भी ढील दी गई है। इसके अलावा, यहां पर्यटन केंद्र, सिनेमा हॉल, मॉल और सार्वजनिक पार्क समेत अन्य स्थानों को प्रतिबंधित दिशानिर्देशों के साथ फिर से खोल दिया गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *