राजस्थान में त्यौहारों के समय पर वायु प्रदुषण को नियंत्रित रखने के लिए राज्य सरकार ने पटाखों पर बैन लगाया था, जिसे आखिरकार वापिस ले लिया गया है। राजस्थान में 31 जनवरी 2022 तक पटाखों की बिक्री पर रोक लगा दी गई थी, लेकिन पटाखा मैन्यूफेक्चर्स और व्यापारियों के प्रयासों के बाद इस बैन को हटा दिया गया है। अब यहां एनसीआर क्षेत्र को छोड़कर अन्य जिलों में दीपावली पर दो घंटे रात 8 से 10 बजे तक के लिए ग्रीन पटाखों को चलाने की अनुमति प्रदान की है।

क्रिसमस और नए साल पर भी लोग जला पाएंगे पटाखे

गृह विभाग की ओर से जारी आदेशों में क्रिसमस और नववर्ष पर रात्रि 11.55 से रात्रि 12.30 बजे, गुरू पर्व पर रात्रि 8 से रात्रि 10 बजे तक तथा छठ पर्व पर सुबह 6 से सुबह 8 बजे तक ग्रीन पटाखा चलाने की अनुमति होगी। अन्य त्योहारों पर आतिशबाजी के संबंध में गृह विभाग अलग से दिशा-निर्देश जारी करेगा।

आदेश के अनुसार, जिस शहर में एयर क्वालिटी ख़राब है, वहाँ पर उस दिन आतिशबाज़ी पर रोक रहेगी। सुप्रीम कोर्ट और एनजीटी के दिशा-निर्देशों को ध्यान में रखते हुए गृह विभाग ने अधिकतम छूट देते हुए ग्रीन पटाखों को चलाने की अनुमति प्रदान की है। गौरतलब है कि कुछ दिन पहले प्रदूषण और कोरोना मरीजों को होने वाली परेशानियों को देखते हुए राज्य में पटाखे चलाने और बेचने पर पाबंदी लगा दी गई थी।

केंद्र सरकार की एजेंसी सीएसआईआर-नीरी देती है ग्रीन पटाखों का प्रमाणन

ग्रीन पटाखों का प्रमाणन केंद्र सरकार की एजेंसी सीएसआईआर-नीरी के द्वारा किया जाता है। राज्य में 12 पटाखा उत्पादकों को यह प्रमाण-पत्र दिया जा चुका है। इन उत्पादकों को पीईएसओ से पटाखा बनाने के लिए लाइसेंस भी लेना होता है। राज्य के 9 उत्पादकों के पास पीईएसओ से लाइसेंस प्राप्त है। पटाखों के डिब्बों पर नीरी का हरे रंग का लोगो और क्यू आर कोड होता है, जिसे स्केन कर ग्रीन पटाखों की पहचान की जा सकती है।

 

 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *