जरूरी बातें

राजस्थान में रात 11 बजे से सुबह 5 बजे तक 6 घंटे का कर्फ्यू लगाया गया है।

सार्वजनिक कार्यक्रमों पर लोगों की संख्या को 200 तक सीमित कर दिया गया है।

उल्लंघन की स्थिति में, आयोजकों पर ₹10,00 का जुर्माना लगाया जाएगा।

राज्य सरकार के सभी कर्मचारियों के लिए भी दोहरी खुराक अनिवार्य है।

राजस्थान में ओमीक्रॉन के मामलों में आकस्मिक वृद्धि को देखते हुए, राज्य सरकार ने कम से कम प्रतिबंधों के साथ वायरस के प्रसार को रोकने के लिए प्रोटोकॉल का एक सेट जारी किया है। संक्रमण को बढ़ने से रोकने के लिए राजस्थान के सभी जिलों में रात 11 बजे से सुबह 5 बजे तक 6 घंटे का कर्फ्यू लगाया गया है। इसके लिए सभी प्रकार के सार्वजनिक, सामाजिक, पारंपरिक के साथ-साथ धार्मिक कार्यों, त्योहारों और शादी के कार्यक्रमों पर लोगों की संख्या को 200 तक सीमित कर दिया गया है।

राजस्थान में ताजा दिशानिर्देश

राजस्थान राज्य ने वायरस के परीक्षण, ट्रैकिंग, उपचार पर ध्यान देने के साथ नए दिशानिर्देश जारी किए हैं। इसके अनुसार राज्य में किसी भी सार्वजनिक सभा या कार्यक्रम में केवल 200 लोगों को ही शामिल होने की अनुमति होगी। विशेष रूप से, संख्या केवल उपरोक्त सीमा से अधिक हो सकती है यदि जिला कलेक्टर के साथ-साथ जिला मजिस्ट्रेट द्वारा पूर्व अनुमति दी जाती है। उल्लंघन की स्थिति में, आयोजकों पर ₹10,00 का जुर्माना लगाया जाएगा।

कर्फ्यू का समय और प्रोटोकॉल:

इसके अलावा, यात्रा और आवाजाही के प्रोटोकॉल भी लागू किए गए हैं। जयपुर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे की यात्रा करने वाले सभी विदेशियों को अनिवार्य रूप से कोरोना स्क्रीनिंग के लिए आवश्यक जानकारी प्रदान करनी होगी। शहर की परिवहन सेवाओं, जैसे बसों को सुबह 5 बजे से रात 11 बजे तक ही अनुमति दी जाएगी। इस बीच यहां रात का कर्फ्यू (रात 11 बजे से सुबह 5 बजे तक) रहेगा। रात 10 बजे तक ही रेस्टोरेंट में खाने की इजाजत होगी। 31 दिसंबर को भोजनालयों को दोपहर 12:30 बजे तक संचालित करने की अनुमति है।

स्कूलों, कॉलेजों, कोचिंग सेंटरों और अन्य शैक्षणिक संस्थानों के सभी टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ के लिए टीकाकरण की दोनों खुराक लेना अनिवार्य है। राज्य सरकार के कर्मचारियों के सभी अधिकारियों और अधिकारियों के लिए भी दोहरी खुराक अनिवार्य है।

सिनेमा हॉल, थिएटर और मल्टीप्लेक्स में जाने वाले लोगों को तभी प्रवेश दिया जाएगा, जब उन्हें वैक्सीन की दोनों खुराक मिल गई हों। सभागारों और अन्य स्थानों पर समारोहों के लिए आने वालों पर भी यही नियम लागू होगा। 31 जनवरी के बाद इन जगहों पर सिर्फ टीकाकरण कराने वाले लोगों को ही अनुमति दी जाएगी। इन नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *