मुख्य बिंदु

इंदौर पुलिस कमिश्नर ने धारा 144 के तहत जिले में कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए हैं।
इंदौर के हर होटल और मकान मालिकों को किरायेदारों की जानकरी संबंधित थाने में देनी होगी।
जिले में सार्वजनिक स्थलों पर किसी भी तरह की राजनीतिक रैली और उससे कार्यक्रम करने के लिए लिखित अनुमति लेनी होगी।
जिले में कोई भी मेडिकल स्टोर संचालक नींद, बेहोशी और गर्भपात से जुड़ी दवाओं को बिना डॉक्टर के पर्चे के नहीं बेच सकेगा।
जिले के हर स्पा सेंटरों की समय समय पर जांच होगी और स्पा सेंटर की पूरी जानकारी पुलिस को देनी होनी होगी।
इसके साथ ही शहर में 15 दिन से अधिक रहने वालों की पूरी जानकारी देनी होगी और विदेश नागरिकों की जानकारी भी एफआरआरओ ( Foreigners Regional Registration Officers) शाखा को अनिवार्य रूप से देनी होगी।

इंदौर में जनता की सुरक्षा के लिए और शहर में कानून व्यवस्था को पुख्ता करने के लिए इंदौर के पहले पुलिस कमिश्नर हरिनारायण चारी मिश्रा (Harinarayan Chari Mishra) ने तीन मामलों में धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी कर दिए हैं। जारी किये गए आदेश में कहा गया है कि होटल और घर में रखे जाने वाले किराएदारों की पूरी जानकारी पुलिस को देना अनिवार्य होगा। इसके साथ ही दुकान या घर में काम करने वाले व्यक्तियों की जानकारी अनिवार्य रूप से पुलिस को देनी होगी। और किसी को नौकरी या किराये से रखने के दौरान मकान और दुकान मालिक उनके आधार कार्ड और पहचान पत्र की फोटो कॉपी भी अपने पास रखेंगे और जरूरत पड़ने पर पुलिस को भी देना होगा। इसके साथ ही शहर में 15 दिन से अधिक रहने वालों की पूरी जानकारी देनी होगी और विदेश नागरिकों की जानकारी भी एफआरआरओ ( Foreigners Regional Registration Officers) शाखा को अनिवार्य रूप से देनी होगी। ऑनलाइन डिलीवरी करने वाली कंपनियों को भी कर्मचारी का रिकॉर्ड रखना होगा।

बिना डॉक्टर की पर्ची के नींद की दवा देने पर पूरी तरह रोक

इंदौर पुलिस के मुताबिक शहर में नींद और बेहोशी की श्रेणी में आने वाली दवाई का उपयोग अब लोग नशे के तौर पर कर रहे हैं। इनमें नाइट्राजेपाम, निट्रैवेट और ऐटीज़ोलम जैसी कई अन्य दवाएं शामिल हैं। इसी के साथ गर्भपात के लिए इस्तेमाल होने वाली दवाएं भी बिना डॉक्टर के पर्चे के नहीं बेचीं जा सकेंगी। किसी ने भी अगर इस तरह की दवा खरीदी है तो डॉक्टर की पर्ची का रिकॉर्ड भी मेडिकल स्टोर संचालक को रखना होगा। इंदौर पुलिस कमिश्नर ने इसके लिए आदेश जारी किया है कि कोई भी दवा दुकान संचालक ऐसी दवाओं को बिना डॉक्टर के पर्चे के नहीं बचेंगे। अगर कोई भी दवा दुकानदार इन दवाओं को बिना डॉक्टर के पर्चे के बेचता पकड़ा गया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी।

स्पा सेंटरों की होगी जांच

पुलिस कमिश्नर के आदेश में स्पा सेंटरों के लिए भी आदेश जारी किया गया है जिसके तहत पुलिस को शहर के सभी स्पा सेंटरों की भी जांच करनी होगी। स्पा में काम करने वाले हर कर्मचारी का पूरा रिकॉर्ड रखना अनिवार्य किया गया है और संबंधित थाने क्षेत्र में स्पा सेंटर संचालकों को कंपनी की पूरी जानकारी देनी होगी।

राजनीतिक रैली और कार्यक्रम के लिए लेनी होगी अनुमति

शहर में राजनीतिक रैली आये दिन होती रहती है जिसके कारण शहर में जाम की स्थिति और अव्यवस्था पैदा होती है जिससे आम नागरिकों को समस्या का सामना करना पड़ता है। इसी के कारण किसी भी पार्टी के बैनर या रैली प्रदर्शन के लिए पहले पुलिस कमिश्नर कार्यालय से अनुमति लेनी होगी। इसके साथ ही सार्वजिनक स्थान पर बैनर पोस्टर के साथ किसी भी तरह के भड़काऊ नारे और भाषण लिखने या देने पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया है और इस आदेश का पालन न करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई होगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *