इंदौर के श्री नगर इलाके में स्थित, छत्री बाग होलकर राजवंश के शासकों और उनके परिवार जनों की स्‍मृति में समर्पित है। छत्री बाग में स्‍मारक छतरियों के रूप में मौजूद है जो हमें होलकर युग की याद दिलाती हैं। मूल रूप से राजाओं और रानियों के लिए एक दफन स्थल, छतरियों वाले इस परिसर को अब एक लोकप्रिय पार्क में बदल दिया गया है। यदि आप इससे जुड़े इतिहास में दिलचस्पी रखते हैं और पार्क में बनी स्मारकों की संरचना को करीब से देखना चाहते हैं, तो मास्क लगाएं और पार्क की सैर पर निकल जाएं।

रात में यहां मनोरम दृश्य देखने को मिलते हैं


यह बाग प्राकृतिक सुंदरता और मानव निर्मित उत्कृष्ट वास्तुकला का मिश्रण है। बाग के परिसर के भीतर इंदौर के शाही होल्करों को समर्पित स्मारक छत्रों के समूह हैं। हालांकि, इस जगह के आकर्षण का केंद्र होल्कर राजवंश के संस्थापक मल्हार राव होल्कर प्रथम को समर्पित स्मारक है। यहां स्थित सभी स्मारक गुंबद के आकार के हैं और गुंबद के शीर्ष पर पिरामिडनुमा शिखर हैं।

इंदौर का छतरी बाग उन आगंतुकों के लिए एक विशेष जगह है जो रात के दौरान यहां समय व्यतीत करते हैं, क्योंकि हर रात, यहां कृत्रिम झील, फव्वारों व लाइट्स की रोशनी में बेहद सुंदर व लुभावना नज़ारा देखने को मिलता है। यहां स्थित कृत्रिम झील, बगीचों से घिरी हुई है और यह स्थान आगंतुकों के लिए नौका विहार की सुविधा भी प्रदान करता है।

नॉक-नॉक

खान नदी के पास स्थित, इंदौर में छतरी बाग के सुरम्य दृश्य और यहां की संरचनाएं मंत्रमुग्ध कर देने वाली हैं। इसलिए इस पार्क में जाते ही अपना कैमरा, मास्क और सैनिटाइज़र ले लें। इसके अलावा, जब आप बाहर घूमने जाते हैं तो कोविड-उपयुक्त व्यवहार का पालन करना न भूलें!