2021 के 74वें वार्षिक कान फिल्म महोत्सव में इंदौर में बनी स्टेनली हेक्टर की शॉर्ट फिल्म 'जंप' को दिखाया गया। इस फिल्म में एक अधिक वज़न वाले बच्चे के साहस की कहानी दिखाई गई है जो एक्रोफोबिया (ऊंचाई का डर) से जूझ रहा होता है, और जब उसके पास आम के पेड़ से कूदने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं बचता, तो उसे इस डर से उबरने के लिए मजबूर होना पड़ता है। इस फिल्म को बनाने वाले 23 वर्षीय निर्देशक के बारे में अधिक जानने के लिए आगे पढ़ें।

साहस और डर से उबरने की कहानी है 'जंप'


6 मिनट की इस फिल्म में 9 वर्षीय शौनक महिंद्रा ने काम किया है, जिसका लक्ष्य एक्टिंग में ही अपना करियर बनाना है। शौनक ने बताया कि उनके पिता, जो इस फिल्म के निर्माता भी हैं, ने उन्हें इस भूमिका के लिए तैयार करने में मदद की, जिसके बाद उन्होंने इस रोल के लिए ऑडिशन दिया और इस अवसर को प्राप्त किया, जिसे अब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति मिल रही है।

'जंप' फिल्म में एक बच्चे की पतंग आम के पेड़ पर फंस जाती है। बच्चे का वजन ज्यादा होने के बाद भी वह पतंग निकालने के लिए जैसे-तैसे पेड़ पर चढ़ता है। पेड़ में चढ़ने के दौरान सीढ़ी नीचे गिर जाती है। इसके अलावा उसका एक जूता भी पैर से फिसल जाता है। पेड़ की टहनी में फंसने के बाद भी वह हार नहीं मानता और पेड़ से जंप लगाकर नीचे आ जाता है।

जानिए स्टेनली हेक्टर के बारे में-


रिपोर्ट के अनुसार हेक्टर ने बताया कि, "मैं यह दिखाना चाहता था कि जीवन में, हम एक ऐसे पड़ाव पर पहुंच जाते हैं, जहां हमें चौराहे पर एक बड़ा निर्णय लेना होता है। हम अक्सर नहीं जानते कि क्या हम सही निर्णय लेने जा रहे हैं। हमें डर से परे जाना चाहिए और चुनौती का सामना करना चाहिए। अंत में हमे जीत मिलेगी।"

यह फिल्म कान्स में चुनी जाने वाली स्टेनली हेक्टर की दूसरी फिल्म है, पहली 'मिडनाइट एट 2' है जिसे 2018 में चुना गया था। वह इस फिल्म के लेखक और निर्देशक दोनों थे। FAMU (Film & TV School of the Academy of Performing Arts), Prague, Czech के पूर्व छात्र स्टेनली के अन्य कार्यों में द हीरो इन (2021), पाब्लो (2019) और ग्लोब (2016) जैसी फिल्में शामिल हैं।

-With inputs from ANI