मुख्य बातें:

  • मध्य प्रदेश में 125 वनक्षेत्रों को पर्यटन स्थल में तब्दील किया जाएगा।
  • इंदौर से 15 किमी दूर उमरीखेड़ा वनक्षेत्र में नेचर एडवेंचर्स पार्क बनाया जाएगा।
  • इंदौर से चोरल मार्ग पर सालों से बंद पड़ी उमरीखेड़ा नर्सरी को भी दोबारा शुरू किया जाएगा।
  • पर्यटकों के घूमने के लिए उमरीखेड़ा वनक्षेत्र की पहाड़ी तक पैदल ट्रैक बनाया जाएगा।
  • 45 से ज्यादा दुलर्भ प्रजाति वाले पेड़ों पर क्यूआर लगाया जाएगा।

मध्य प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए 26 जनवरी से राज्य में 125 वनक्षेत्रों को पर्यटन स्थल में बदलने की कवायद शुरू की जाएगी। इन वनक्षेत्रों में लोग प्रकृति की गोद में वन्यजीवों को करीब से देख पाएंगे।  इनमें से एक इंदौर से 15 किमी दूर उमरीखेड़ा वनक्षेत्र को भी चुना गया है, जहां नेचर एडवेंचर्स पार्क के निर्माण की योजना बनाई गई है।

 

इंदौर रेंज में आने वाले उमरीखेड़ा वनक्षेत्र (कक्ष क्र. 262) का दायरा 190 हैक्टेयर में फैला है। यहां नेचर एडवेंचर पार्क बनाने का काम वन विभाग द्वारा शुरू कर दिया गया है। इसके तहत इंदौर से चोरल मार्ग पर सालों से बंद पड़ी उमरीखेड़ा नर्सरी को भी दोबारा शुरू किया जाएगा। रिपोर्ट के अनुसार, नर्सरी में 50 हजार पौधे उगाए जाएंगे, जिसमें सजावटी, औषधि पौधे, जंगल में रोपने वाले और दुलर्भ प्रजातियों के पौधे शामिल होंगे। यहां पर वर्मी कम्पोस्ट से खाद बनाने का काम शुरू हो चुका है। अधिकारियों के मुताबिक पर्यटकों के लिए पौधों और खाद की बिक्री रखी जाएगी।

पर्यटकों के लिए बनाया जाएगा पैदल ट्रैक

पर्यटकों के घूमने के लिए उमरीखेड़ा वनक्षेत्र की पहाड़ी तक पैदल ट्रैक बनाने की योजना भी बनाई गई है। इस ट्रैक की मदद से लोग तीन से चार किमी तक जंगल में पैदल घूम सकेंगे और नीलगाय, सियार, लकड़बग्घा, मोर जैसे जीव जंतुओं को करीब के देख पाएंगे। इसके साथ ही इसे वनक्षेत्र को और भी आकर्षक बनाने के लिए एक तालाब को पुर्नजीवित किया जाएगा। तालाब में पानी आने के बाद पर्यटकों को यहां टैंट लगाकर रुक सकेंगे।

क्यूआर कोड से मिलेगी पौधों की जानकारी

लोगों को विभिन्न पेड़-पौधों की जानकारी देने के लिए 45 से ज्यादा दुलर्भ प्रजाति वाले पेड़ों पर क्यूआर लगाया जाएगा, जिसे अपने फोन पर स्कैन करके पर्यटक उससे संबंधित पूरी जानकारी प्राप्त कर पाएंगे। इसक काम इको- टूरिज्म द्वारा शुरू कर दिया गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *