कोविड वैक्सीन के सीमित स्टॉक को देखते हुए, इंदौर में जिला स्वास्थ्य अधिकारियों ने फैसला किया है कि शनिवार को 45 वर्ष से ऊपर के नागरिकों को पहली खुराक टीकाकरण की अनुमति नहीं दी जाएगी। इस संबंध में प्रासंगिक निर्देश इस आयु वर्ग के लोगों के लिए कोविशील्ड टीकाकरण 13 और 15 मई को रद्द किए जाने के एक दिन बाद दिए गए थे। नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार, दूसरी खुराक आज दी जाएगी लेकिन पहली खुराक की अनुमति नहीं होगी।

वैक्सीन की कमी शहर के नागरिकों के बीच चिंता का विषय बना हुआ है


टीकों की कमी की सूचना के बाद यह निर्णय लिए गए थे। लोगों को मोबाइल ऐप पर उनकी दूसरी खुराक के लिए संदेश मिल रहे हैं, लेकिन प्रशासन के लिए सही समय पर वैक्सीन खरीदना मुश्किल हो रहा है। कथित तौर पर, इंदौर में अब क्रमशः 5,000 और 28,000 कोविशील्ड और कोवैक्सिन की खुराक है और इसी कारण अधिकारियों को ऐसे कदम उठाने के लिए मजबूर किया है।

वैसे तो इंदौर में 18 वर्ष से अधिक आयु के नागरिकों के लिए टीकाकरण कार्यक्रम राष्ट्रीय लॉन्च के साथ ही शुरू हुआ था, लेकिन टीकाकरण अभियान निर्धारित लक्ष्य को पूरा करने असक्षम है। समय-समय पर खुलने वाले स्लॉट की सीमित संख्या को देखते हुए, लोगों को टीकाकरण करवाने के लिए बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इसके अलावा जो नागरिक अपनी दूसरी खुराक का इंतजार कर रहे हैं, वे भी अनिश्चितताओं से घिरे हैं।

इंदौर कोविड अपडेट


इंदौर में गुरुवार को 1,577 नए मामले दर्ज किए जाने के बाद, सक्रिय मरीजों की संख्या बढ़ाकर 18,067 हो गई। जहां 1,015 मरीज़ ठीक हो गए थे, वहीं 9 व्यक्तियों ने उसी दिन घातक वायरस के कारण दम तोड़ दिया। अब तक, इंदौर में 1,33,284 नागरिक इस संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं, जिससे यह मध्य प्रदेश का सबसे अधिक प्रभावित जिला बन गया है।