मुख्य बिंदु

ताजमहल की तरह ही मध्य प्रदेश के बुरहानपुर में बना है आलिशान घर।
बुरहानपुर के शिक्षाविद व उद्योगपति आनंद प्रकाश चौकसे ने अपनी पत्नी को तोहफे में दिया है ये घर।
इस घर में 4 कमरे हैं, एक किचन, एक डाइनिंग रूम और एक मेडीटेशन रूम भी है।
असली ताजमहल की मीनार अगर 40 मीटर ऊंची है तो इस ताजमहल की मीनार 40 फुट ऊंची हैं।
यहाँ प्री-वेडिंग शूट के लिए भी आते हैं लोग।

दुनिया के सात अजूबों में शुमार आगरा का ताजमहल शाहजहां ने मुमताज महल की याद में बनवाया था लेकिन इस बात से बहुत कम लोग वाकिफ़ हैं कि आगरा में बना ताजमहल पहले मध्य प्रदेश के बुरहानपुर में बनने वाला था लेकिन कुछ कारणों की वजह से नहीं बन पाया था। यूं तो बुरहानपुर में अनेकों ऐतिहासिक इमारतें जैसे शाही महल, आहूखाना आदि हैं लेकिन इन दिनों ताजमहल की तरह ही मध्य प्रदेश के बुरहानपुर में बना एक घर लोगों के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है।

पत्नी को उपहार में दिया ताजमहल की जैसा घर

दुनिया में प्यार करने वालों की कमी नहीं है और जिस तरह शाहजहां ने मुमताज़ के नाम ताजमहल किया उसी तरह बुरहानपुर के शिक्षाविद व उद्योगपति ‘आनंद प्रकाश चौकसे’ ने एक हूबहू ताजमहल की तरह ही घर बनवाकर अपनी पत्‍नी ‘मंजूषा’ को उपहार में दिया है। उनका कहना है कि मेरी मुमताज़ अभी ज़िंदा है और मैंने ये ताजमहल उन्हीं को उपहार के तौर पर दिया है। यह ताजमहल घर लोगों के बीच इतनी चर्चा में है की पर्यटक बुरहानपुर में बनी और भी ऐतिहासिक इमारतों के साथ इसे भी देखने आ रहे हैं।

ताजमहल जैसा है यह आलिशान घर

बुरहानपुर में बनी यह ताजमहल रुपी ईमारत बाहर से देखने पर हूबहू ताजमहल लगता है. लेकिन जैसे ही आप इसके अंदर जायेंगे तो एक आलिशान घर की तरह लगता है। आनंद प्रकाश चौकसे ने बताया कि इस घर के अंदर 4 कमरे हैं, एक किचन, एक डाइनिंग रूम और एक मेडीटेशन रूम भी है जहां ध्यान लगाया जा सकता है।

उन्होंने यह भी बताया यह आलिशान ईमारत असली ताजमहल का एक तिहाई है, यानी अगर असली ताजमहल की मीनार अगर 40 मीटर ऊंची है, तो इस ताजमहल की मीनार 40 फुट ऊंची हैं। यही कारण है की इसे बाहर से देखने पर यह घर ताजमहल की याद दिलाता है। 

स्टूडेंट्स को बुरहानपुर की ख़ासियत बताएगा

आनंद प्रकाश चौकसे ने कहा की बुरहानपुर में बहुत सारे विद्यार्थी आते हैं लेकिन वो यहां की ख़ासियत से अपरिचित हैं। इसीलिए उन्होंने इस इमारत का निर्माण कराया और अपनी पत्नी को तोहफे में दे दिया। उन्होंने ने ये भी बताया की यहां बहुत लोग अपने प्री-वेडिंग शूट के लिए भी आते हैं, और जिन्होंने आगरा का ताजमहल नहीं देखा है वो यहां आकर मध्यप्रदेश के बुरहानपुर में बने ताजमहल का नज़ारा देख सकता है।

इस घर का क्षेत्रफल 90X90 का है और बेसिक स्ट्रक्चर 60X60 का है, जबकि, गुंबद 29 फीट ऊंची है। आनंद प्रकाश चौकसे ने बताया कि इसे बनाने में करीब 3 साल का वक्त लगा है।दीवारों पर ताजमहल जैसी खूबसूरती लाने के लिए राजस्थान और आगरा के कारीगरों की मदद ली गई। वहीं घर के अंदर के फर्नीचर की बात करें तो इसे मुंबई और सूरत के कारीगरों ने डिजाइन किया है। वहीं, घर की फ्लोरिंग राजस्थान के मकराना के कारीगरों ने की है। जबकि, फर्नीचर सूरत और मुंबई के कारीगरों ने तैयार किए हैं सतह ही आगरा के कारीगरों की भी मदद ली गई। अल्ट्रा टेक ने इस घर को इंडियन कंस्ट्रक्टिंग अल्ट्राटेक आउट स्टैंडिंग स्ट्रक्चर ऑफ एमपी का अवार्ड भी दिया है।

Read More :- जयपुर से जोधपुर की एक यात्रा करें और देखें राजस्थान की भव्यता और सांस्कृतिक रंगों की सबसे खूबसूरत झलक

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *