इंदौर में टीकाकरण अभियान के बेहतर प्रबंधन के लिए मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग ने निर्देश दिया है कि शहरी केंद्रों में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के बाद ही 18+ व्यक्तियों को वैक्सीन की खुराक दी जाएगी। रिपोर्ट के अनुसार, इसमें इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर जैसे संभागीय मुख्यालय वाले जिले शामिल हैं। कथित तौर पर, लोग इंदौर में टीकाकरण केंद्रों पर शाम 4 बजे के बाद ऑन-स्पॉट रजिस्ट्रेशन के माध्यम से टीका लगवा सकेंगे।

वैक्सीन की बर्बादी को रोकने के लिए  टीकाकरण की बेहतर योजनाएं 

विशेष रूप से, ऑन स्पॉट रजिस्ट्रेशन की अनुमति के बाद केंद्रों में बहुत भीड़भाड़ थी, और इससे पुलिस अधिकारियों के लिए दिशा-निर्देशों और प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित करना मुश्किल हो गया। इन परिस्थितियों को देखते हुए, यह अनिवार्य किया गया है कि वर्चुअल प्लेटफॉर्म पर पहले से रजिस्ट्रेशन करने पर ही खुराक दी जायेगी।

रिपोर्ट में कहा गया है कि राज्य के ग्रामीण इलाकों में वॉक-इन टीकाकरण जारी रहेगा। इस कार्यक्रम के तहत, लोग टीका लगवाने के लिए टीकाकरण स्थल पर कतारों में खड़े होंगे। टीकाकरण की एक बेहतर योजनाओं के माध्यम से, अधिकारियों का लक्ष्य टीके की बर्बादी को रोकना है और यह देखना है की सभी को सामान्य रूप से टीकाकरण का लाभ प्राप्त हो।

बॉम्बे अस्पताल और चोइथराम अस्पताल जल्द ही टीकाकरण शुरू करेंगे

अभी तक राजश्री अस्पताल अकेला प्राइवेट केंद्र है जहां अभी टीका लग रहा, और अब दो और प्राइवेट अस्पतालों को टीका लगाने के लिए शामिल किया जाएगा। रिपोर्ट के अनुसार, आने वाले दिनों में बॉम्बे अस्पताल और चोइथराम अस्पताल में टीकाकरण अभियान शुरू होने की उम्मीद है और इसके लिए उन्हें पहले ही स्टॉक आवंटित कर दिया गया है। गौरतलब है कि इंदौर राज्य भर में टीकाकरण कार्यक्रम में सबसे आगे है और अब तक शहर में इसकी 10,24,813 खुराकें दी जा चुकी हैं।

इंदौर में बुधवार को कोरोना के 623 मामले आये और सक्रीय लोगों की संख्या अब 8,848 मरीज़ों तक आ गयी है। शहर में कुल 1,47,345 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं 1,323 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो चुकी है। 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *