मुख्य बिंदु:

– इंदौर में छावनी मंडी को शहर के बाहर माचला गांव की 100 एकड़ जमीन पर स्थानांतरित करने की कवायद शुरू हुई।

– यहां प्रदेश की सबसे बड़ी स्मार्ट मंडी बनाई जाएगी

– जगह की कमी और यातायात अव्यवस्था के कारण बदली जा रही जगह

– यहां पर किसानों को अनाज रखने के लिए गोदाम, ऑनलाइन बैंकिंग के लिए इंटरनेट की सुविधा, पैकेजिंग एवं पॉलिसिंग के लिए आधुनिक मशीनें होंगी।

– साथ ही यहां पर पेट्रोल पंप होगा, किसान बाजार लगेगा, कृषि यंत्र मिल सकेंगे। 

इंदौर में छावनी मंडी को शहर के बाहर बायपास पर कैलोद करताल और माचला गांव की 100 एकड़ जमीन पर स्थानांतरित करने की कवायद शुरू हो गई है। यहां प्रदेश की सबसे बड़ी स्मार्ट मंडी बनाई जाएगी। रिपोर्ट के अनुसार, रेसीडेंसी में जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों, मंडी पदाधिकारियों की बैठक में इसकी चर्चा की गई, जिसके बाद ज़मीन का दौरा भी किया गया। अब जल्द ही नई मंडी विकसित करने के लिए प्रस्ताव मंडी बाेर्ड मुख्यालय भोपाल भेजा जाएगा।

जगह की कमी और यातायात अव्यवस्था के कारण बदली जा रही जगह

वर्तमान छावनी मंडी 17 एकड़ में फैली है और किसानों व कृषि उपज से जुड़े व्यापारियों के लिए यह परिसर छोटा पड़ रहा है। छावनी मंडी में अपनी उपज बेचने आने वाले किसानों और मंडी से बाहर माल भेजने पर व्यापारियों को यातायात की अव्यवस्था से भी गुजरना पड़ता है। मंडी आने वाले वाहनों के कारण नवलखा, तीन इमली और अग्रसेन चौराहा पर अक्सर जाम की स्थिति बनती है।

शहर के मध्य क्षेत्र में ट्रैफिक को व्यवस्थित करने और किसानों को मंडी में अधिक सुविधाएं देने के लिए मंडी को शिफ्ट करके स्मार्ट मंडी में तब्दील किया जाएगा। अभी औसतन छावनी मंडी में हर दिन 10 से 15 करोड़ का कारोबार होता है। विस्तार के बाद यह कारोबार हर दिन 50 करोड़ से अधिक हो जाएगा।

कैलोद करताल में सर्वसुविधायुक्त नई मंडी बनाई जाएगी

अधिकारियों ने तय किया कि कैलोद करताल में सर्वसुविधायुक्त नई मंडी बनाई जाएगी। यहां काफी जमीन उबड़-खाबड़ है। इसी कारण ऐसी जगह मंडी विकसित करने के प्रति कुछ अधिकारियों और व्यापारियों ने अरुचि जाहिर की थी, लेकिन अब तय हुआ है कि जमीन का समतलीकरण कर इसका उपयोग किया जाएगा। इस जमीन में कुछ हिस्सा ग्रीन बेल्ट भी है। इस पर सहमति बनी कि इसके लैंड यूज में बदलाव के लिए प्रस्ताव शासन को भेजा जाएगा।

कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि यह मंडी एशिया की सबसे स्मार्ट मंडी बनाई जाएगी। यहां पर किसानों को अनाज रखने के लिए गोदाम, ऑनलाइन बैंकिंग के लिए इंटरनेट की सुविधा, पैकेजिंग एवं पॉलिसिंग के लिए आधुनिक मशीनें होंगी। साथ ही यहां पेट्रोल पंप होगा, किसान बाजार लगेगा, कृषि यंत्र मिल सकेंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *