• इंदौर के सराफा बाज़ार को मिला ‘क्लीन स्ट्रीट फूड हब’ का दर्जा।
  • यह खिताब भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) द्वारा दिया गया।
  • 56 दुकान को पहले ही मिल चुका है यह खिताब।
  • इस नए खिताब से साथ इंदौर प्रदेश का एकमात्र ऐसा शहर बन गया है, जिसे ‘क्लीन स्ट्रीट फूड हब’ के दो टैग मिले हैं।
  • एफएसएसएआई ने साफ-सफाई, हाईजीन, शुद्धता, कचरे का सही निपटान और बेहतर व्यवस्था जैसे अलग-अलग पैमानों के आधार पर दिया ये दर्जा।

देश के सबसे साफ-सुथरे शहर के रूप में प्रसिद्ध इंदौर ने एक नई उपलब्धि हासिल की है। बुधवार को शहर के सराफा बाज़ार को भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) द्वारा ‘क्लीन स्ट्रीट फूड हब’ का दर्जा दिया गया। 56 दुकान को पहले ही यह दर्जा दिया जा चुका है, इस नए खिताब से साथ इंदौर प्रदेश का एकमात्र ऐसा शहर बन गया है, जिसे ‘क्लीन स्ट्रीट फूड हब’ के दो टैग मिले हैं।

अलग-अलग पैमानों के आधार पर किया गया सर्वे

एफएसएसएआई ने सराफा बाजार और 56 दुकान के स्ट्रीट फूड सेंटर का थर्ड पार्टी से ऑडिट के माध्यम से साफ-सफाई, हाईजीन, शुद्धता, कचरे का सही निपटान और बेहतर व्यवस्था के अलग-अलग पैमानों पर अंक देते हुए सर्वे करवाया था। एफएसएसएआई ने उक्त दोनों स्ट्रीट फूड सेंटर को अपने मापदंडों पर टेस्ट कर क्लीन स्ट्रीट फूड सेंटर प्रमाणित किया है।

दुकानदारों का योगदान रहा महत्वपूर्ण

इंदौर में 56 दुकान और सराफा पहले से ही अपने बेहतरीन स्ट्रीट फूड के लिए देश भर में प्रसिद्ध थे, अब इस नई उपलब्धि के साथ इन्हें स्वच्छता के लिए भी जाना जाएगा। इस सफलता को हासिल करने में यहां के दुकानदारों के प्रयासों का बहुत बड़ा योगदान रहा है। 

दुकानदारों ने स्वच्छता के सभी मानकों का पालन किया जैसे मास्क, दस्ताने और कैप पहनना, जिसके आधार पर बाज़ार को यह सर्टिफिकेट दिया गया है। अब आगे मान्यता प्राप्त डिस्पोजल का इस्तेमाल किया जाएगा और दुकानों को व्यवस्थित ढंग से स्थापित करने पर ज़ोर दिया जाएगा। ‘क्लीन स्ट्रीट फूड हब’ के खिताब के बाद यहां के दुकानदार इस बात को लेकर सजग हो गए हैं कि आगामी वर्षों में भी यह तमगा सराफा को ही मिले, इसके लिए रात्रिकालीन सराफा चौपाटी एसोसिएशन ने योजना बनाना शुरू कर दिया है।

एसोसिएशन के अध्यक्ष राम गुप्ता ने बताया कि कई दुकानदार दस्ताने, मास्क, कैप और एप्रन पहनना शुरू कर चुके हैं। इसे बेहतर बनाने के लिए एक-दो माह में मान्यता प्राप्त डिस्पोजल का इस्तेमाल सभी के द्वारा किया जाएगा। बाजार को ज्यादा व्यवस्थित करने के लिए निगम से चर्चा कर दुकानों को पर्याप्त दूरी पर लगवाने की बात की जाएगी। वर्तमान में यहां कई ऐसे व्यंजन बनने लगे हैं, जिनसे धुआं ज्यादा निकलता है, इसे कम करने के लिए भी प्रयास किए जाएंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *