मुख्य बिंदु:

– इंदौर नगर-नगम द्वारा शहर की मलीन बस्तियों को हरा-भरा बनाया जाएगा।

– शहर की 29 बस्तियों को हरियाली वाले इलाकों में तब्दील किया जाएगा।

– खुले क्षेत्रों में वृक्षारोपण अभियान चलाया जाएगा और स्थानीय लोगों को इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

सौंदर्यीकरण कार्यक्रम के सफल क्रियान्वयन के बाद, इंदौर नगर निगम ने अब एक नई पहल के लिए प्रयास शुरू कर दिए हैं, जिसका उद्देश्य शहर भर की मलीन बस्तियों को हरा-भरा बनाना है। रिपोर्ट के अनुसार, नागरिक निकाय ने 29 मलीन बस्तियों को चिह्नित किया है जो इस परियोजना के तहत हरियाली वाले इलाकों में तब्दील हो जाएंगे। कथित तौर पर, खुले क्षेत्रों में वृक्षारोपण अभियान चलाया जाएगा और स्थानीय लोगों को इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

नागरिकों के लिए उपलब्ध कराए जाएंगे सब्जी और फलदार वृक्षों के बीज

रिपोर्ट के मुताबिक, निगम ने करीब 10,000 पौधे लगाने की योजना बनाई है। इसके अलावा, नगर निकाय स्थानीय निवासियों को सब्जी और फलदार पौधों के 1000 से अधिक बीज प्रदान करेगा, जिससे उन्हें योजना में भाग लेने के लिए प्रेरित किया जाएगा। रिपोर्ट के अनुसार, इंदौर नगर निगम पहले चरण के तहत इंदिरा एकता नगर, डायमंड कॉलोनी, खजराना, एरोड्रम, सांवेर रोड, बंगाली, अहिरखेड़ी, गांधी नगर, हवा बांग्ला और अन्य क्षेत्रों की झुग्गी बस्तियों को कवर करेगा।

इस परियोजना के तहत फलदार पौधों के अलावा सजावटी पेड़ों के पौधे भी लगाए जा रहे हैं। कथित तौर पर, नगर आयुक्त ने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान के तहत नवीनतम योजना शुरू की गई है। एक बार हस्तक्षेपों को निष्पादित करने के बाद, इंदौर में कई क्षेत्र हरे-भरे हो जाएंगे।

जागरूकता फैलाने में मदद करेंगे एनजीओ और अन्य संगठन

रिपोर्ट के अनुसार, प्राधिकरण ने कहा कि बीज और पौधे आईएमसी द्वारा प्रबंधित नर्सरी से प्राप्त किए जाएंगे। इससे बिना किसी वित्तीय बोझ के परियोजना के सुव्यवस्थित कार्यान्वयन में मदद मिलेगी। इसके अतिरिक्त, आईएमसी को शहर में गैर सरकारी संगठनों और कल्याण संगठनों का समर्थन प्राप्त हुआ है, जो मलिन बस्तियों के निवासियों के बीच जागरूकता फैलाने के लिए कार्यक्रम चला रहे हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *