आने वाली कोरोना की संभावित तीसरी लहर की सम्भावनाओ के बीच, इंदौर मेडिकल ऑक्सीजन के मामले में आत्मनिर्भर उत्पादक बनने के लिए तैयार हो गया है। ऑक्सीजन सप्लाई का ध्यान रखने के लिए इंदौर में करीब 40 अस्पताल ऑक्सीजन पैदा करने वाले प्लांट लगाएंगे।

इंदौर का लक्ष्य 105 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का उत्पादन करना है 

जिला कलेक्टर ने बताया कि शहर के लगभग 40 अस्पताल ऑक्सीजन उत्पादन प्लांट स्थापित करने का प्रयास कर रहे हैं। ये सामूहिक रूप से 65 मीट्रिक टन मेडिकल ग्रेड ऑक्सीजन का उत्पादन करेंगे। कलेक्टर ने कहा कि अन्य 40 मीट्रिक टन ऑक्सीजन को पीथमपुर में एएसयू और मित्तल प्लांट में लगाया जाएगा। इसके साथ, इंदौर का लक्ष्य आपातकालीन समय में 105 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की सुविधा प्रदान करने की क्षमता को हासिल करना है।

रिपोर्ट के अनुसार, जिला कलेक्टर ने एक और लहर के दबाव को कम करने के लिए ऑक्सीजन प्लांटों के निर्माण में तेजी लाने के लिए एक समिति का गठन किया है। इस संस्था ने सभी सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों को तेजी से काम करने के लिए कहा है। अब तक, लगभग 6 अस्पतालों ने सफलतापूर्वक अपने स्वयं के ऑक्सीजन पैदा करने वाले प्लांट स्थापित करने में कामयाबी हासिल की है। 

मॉनिटरिंग समिति की भूमिका

जिला निगरानी समिति का नेतृत्व मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के साथ जिला एडिशनल कलेक्टर सदस्य सचिव के रूप में करेंगे। अन्य अधिकारियों में आईएमए इंदौर के अध्यक्ष सतीश जोशी, नर्सिंग होम एसोसिएशन के डॉ सुनील बंठिया, डॉ निशांत खरे के साथ-साथ डॉ मधु वर्मा भी शामिल हैं। इन अधिकारियों को ऑक्सीजन प्लांटों की स्थापना पर नजर रखने के लिए अस्पताल प्रबंधन से जानकारी लेने का काम सौंपा गया है। एजेंसी के प्रतिनिधियों को अस्पतालों द्वारा ऑक्सीजन प्लांट लगाने का निर्देश दिया गया है।

रिपोर्ट के अनुसार, जिला समिति ऑक्सीजन संयंत्र की प्रगति की निगरानी के लिए सभी संबंधित अस्पतालों में एक साप्ताहिक बैठक बुलाएगी। राज्य सरकार समग्र एजेंडा को बढ़ावा देने के लिए निजी ऑक्सीजन उत्पादन इकाइयों की स्थापना के लिए 50% पूंजीगत सब्सिडी भी प्रदान करेगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *