देश के स्वास्थ्य सेवा कार्यबल के लिए आभार के प्रतीक के रूप में, भारतीय प्रबंधन संस्थान इंदौर ने फ्रंटलाइन डॉक्टरों के लिए एक मुफ्त ऑनलाइन नेतृत्व विकास कार्यक्रम (लीडरशिप डेवलपमेंट प्रोग्राम) की घोषणा की है। 31 जुलाई से शुरू होने वाले इस कार्यक्रम में कॉलेज की संस्थागत सामाजिक जिम्मेदारी के तहत 100 डॉक्टरों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। इस स्व-वित्त पोषित पहल के साथ, संस्थान चल रही महामारी के दौरान डॉक्टरों द्वारा प्रदान की गई निस्वार्थ सेवाओं के लिए, उनके सम्मान में इस कार्यक्रम का आयोजन करेगा।

आईआईएम इंदौर पूरे कार्यक्रम का खर्च वहन करेगा

रिपोर्ट के अनुसार, कार्यक्रम 70 घंटे तक चलेगा और इससे 100 चयनित डॉक्टर लाभांवित होंंगे। महामारी के विकट समय के दौरान, चिकित्सा बिरादरी ने वायरस का मुकाबला करने के लिए भरपूर प्रयास किए थे और कई लोगों ने अपनी जान गंवाई थी। डॉक्टरों के योगदानों के प्रति कृतज्ञ प्रकट करते हुए, आईआईएम इंदौर ने इस नेतृत्व विकास कार्यक्रम को शुरू करने का फैसला किया है।  

रिपोर्ट के मुताबिक इस कार्यक्रम की नियमित लागत प्रत्येक प्रतिभागी के लिए ₹1.5 लाख आएगी, जो कि आईआईएम प्रशासन द्वारा वहन की जाएगी। इस प्रकार, संस्थान के निदेशक के अनुसार, संस्थान को ₹1.5 करोड़ का कुल व्यय वहन करना होगा। कथित तौर पर, यह संस्थागत सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत देश में किसी भी समान संस्थान द्वारा दिया गया सबसे बड़ा योगदान है।

आगामी कार्यक्रम में विभिन्न विषय शामिल है

यह बताया गया है कि इस कार्यक्रम में विभिन्न प्रकार के विभिन्न पाठ्यक्रम शामिल होंगे। इसमें नेतृत्व कौशल, संवादी क्षमताएं (leadership skills), आपदा प्रबंधन (conversational abilities) और प्रभावी संचार (effective communication)आदि शामिल हैं। इसके अलावा, आगामी पाठ्यक्रम में सेवा प्रशासन और वित्तीय प्रबंधन के क्षेत्रों को भी सम्मिलित किया जाएगा। वर्तमान समय की चुनौतियों को देखते हुए यह उम्मीद की जा रही है कि यह कार्यक्रम डॉक्टरों को उनकी क्षमता को बढ़ाने में काफी मदद करेगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *