इंदौर के महेश ब्लाइंड वेलफेयर एसोसिएशन की लड़कियां रक्षा बंधन के लिए विशेष प्रशिक्षण प्राप्त कर आकर्षक राखियां बना रही हैं। ये हस्तनिर्मित राखियां स्कूलों में ऑनलाइन बेची जाती हैं और दानदाताओं द्वारा भी खरीदी जाती हैं। इन दृष्टिहीन लड़कियों को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने के लिए, यह एनजीओ पिछले 20 वर्षों से हस्तशिल्प वस्तुओं को बनाने में प्रशिक्षित करने के लिए प्रशिक्षकों की नियुक्ति कर रहा है।

इस साल के स्वतंत्रता दिवस की थीम पर बनाई जा रहीं हैं राखियां

एसोसिएशन के विकास अधिकारी डॉ. डॉली जोशी ने कहा कि इस वर्ष राखियों की थीम भारत के स्वतंत्रता दिवस पर आधरित है। प्रशिक्षण प्रक्रिया एक नमूना राखी प्रदान करके शुरू होती है, जिसे बच्चों को छूने के लिए बनाया जाता है। इससे उनके लिए इन बैंडों को बनाने में प्रयुक्त सामग्री की पहचान करना आसान हो जाता है। प्रत्येक सामग्री का अपना नाम बॉक्स पर ब्रेल लिपि में लिखा होता है। इसके माध्यम से लड़कियां विभिन्न वस्तुओं जैसे कुंदन, मोती, धागे आदि के बीच अंतर कर सकती हैं।

महामारी से पहले लड़कियों द्वारा बनाई गई राखी और अन्य कलात्मक वस्तुओं को स्टालों के माध्यम से बेचा जाता था। अब कोविड के कारण, उन्हें ऑनलाइन या स्कूलों में बेचा जाता है। कुछ दानदाता भी इन लड़कियों से राखी खरीदने के लिए आते हैं।

 राज्य से बाहर की लड़कियां भी संस्थान का हिस्सा बन सकती हैं

संस्था में राज्य के भीतर और बाहर से भी 6 वर्ष और उससे अधिक उम्र की लड़कियों को प्रवेश दिया जाता है, और यहां लड़कियों को शिक्षित और आसान कौशल सिखाया जाता है। लड़कियां गरबा, योग और अन्य चीजें सिखाकर सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित करती हैं। राखी के अलावा, उन्हें विशेष अवसरों के साथ-साथ दीवाली के लिए दीए जैसे अन्य सामान बनाने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। एनजीओ का दावा है कि 20 से अधिक लड़कियां परिवीक्षा पर बैंकों की नौकरियों में शामिल हुई हैं। इसके अलावा, एसोसिएशन को अपने विद्यार्थियों के लिए विवाह की व्यवस्था करने के लिए भी जाना जाता है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *