कोविड महामारी के खिलाफ लड़ाई में एक महत्वपूर्ण पड़ाव को पार करते हुए, इंदौर ने पात्र आबादी के बीच 100% लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य प्राप्त कर लिया है। इसका मतलब यह है कि यहां 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों को कम से कम अपनी पहली डोज़ प्राप्त हो गई है। कथित तौर पर, इंदौर भारत का पहला जिला है, जिसकी आबादी 10 लाख से अधिक है, और जिसने यह उपलब्धि हासिल की है। 

इंदौर ने रचा इतिहास!

इंदौर, जो कभी मध्य प्रदेश का सबसे अधिक संक्रमण से प्रभावित ​​​​जिला था, आज उन शहरों की सूची में शामिल हो गया है, जिन्होंने अपने सभी वयस्कों को पहली टीका खुराक दी है। यह उल्लेखनीय उपलब्धि व्यापक टीकाकरण अभियान, एक समर्पित स्टाफ और सहयोग देने वाली जनता के प्रयासों से हासिल हो पाई है।

अब तक, इंदौर में कोविड वैक्सीन की लगभग 38,05,535 खुराकें दी जा चुकी हैं। इस गिनती में 28,08,995 पहली डोज़ और 9,96,540 दूसरी डोज़ शामिल हैं। आधिकारिक CoWIN आंकड़ों के अनुसार, इंदौर में सबसे अधिक लोगों ने Covishield (31,68,773) वैक्सीन प्राप्त की, इसके बाद 6,27,418 लोगों को COVAXIN और 9,334 लोगों को स्पुतनिक V लगाई गई।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *