इंदौर में कोरोना वायरस के घटते हुए मामलों के बीच, जिला प्रशासन ने हवाई अड्डे के अधिकारियों को कुछ यात्रा मानदंडों में ढील देने के लिए कहा है। अब, एयरपोर्ट से आने-जाने वाले यात्रियों को भरने के लिए एक नेगेटिव कोरोना आरटी-पीसीआर टेस्ट रिपोर्ट दिखाने की आवश्यकता नहीं है। इसके अलावा, उन्हें हवाई अड्डे या विमान में प्रवेश की अनुमति प्राप्त करने के लिए अपना टीकाकरण सर्टिफिकेट दिखाने से भी छूट दी गई है। अन्य प्रोटोकॉल जैसे मास्क और फेस शील्ड वैसे ही लागू रहेंगे।

इंदौर हवाईअड्डे से चलने वाली सभी उड़ानें ‘नो-टेस्ट’ की सुविधा प्रदान करेंगी

कोरोनवायरस की दूसरी लहर की शुरुआत के साथ, इंदौर प्रशासन ने सभी यात्रियों के लिए उड़ान भरने के लिए यात्रा के 24 घंटों के भीतर एक नेगेटिव आरटी-पीसीआर कोरोना  टेस्ट रिपोर्ट दिखाना अनिवार्य कर दिया था। हालांकि, प्रबंधन द्वारा बताए गए दिशा-निर्देशों के एक नए सेट में, इस नियम को पूरी तरह से खत्म कर दिया गया है।

यात्री अब सीधे अपने टिकट के आधार पर बोर्डिंग पास प्राप्त कर सकते हैं और यात्रा कर सकते हैं। इंदौर हवाई टर्मिनल से चलने वाली सभी उड़ानें यह सुविधा प्रदान करेंगी।

इससे पहले, यात्रियों को कोविड टीकाकरण सर्टिफिकेट दिखाकर यह भी प्रमाणित करना पड़ता था कि वे कोरोना से सुरक्षित हैं। इस सर्टिफिकेट के वेरिफिकेशन के बाद ही यात्रियों को हवाईजहाज में चढ़ने की अनुमति दी जा रही थी। जिला प्रशासन ने हवाईअड्डा अधिकारियों और अधिकारियों को यह प्रमाणपत्र मांगना बंद करने का निर्देश दिया है। हालांकि, अन्य सभी सुरक्षा प्रोटोकॉल, जैसे कि मास्क पहनना और सुरक्षित सामाजिक दूरी बनाए रखना, लागू होंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *