कोरोना संक्रमण की अपेक्षित तीसरी लहर के लिए इंदौर के मेडिकल ढाँचे को मज़बूत करते हुए एक 100 बिस्तरों की कोविड केयर सुविधा स्थापित की जा रही है। विशेषज्ञों के अनुसार तीसरी लहर के प्रभाव सबसे अधिक बच्चों में दिखाई देने की संभावनाएं हैं,इसीलिए बच्चों के इलाज के लिए सुविधाओं को बढ़ाया जा रहा है। अधिकारियों ने बताया है की इंदौर में तैयार की जा रही इस सुविधा को इस तरह बनाया जा रहा है की इलाज के दौरान संक्रमित बच्चे के साथ परिवार का एक सदस्य के लिए भी जगह होगी।

बच्चों के लिए केंद्रित कोविड केयर सेंटर 

इंदौर प्रशासन ने तीसरी लहर में संक्रमण दर को कम करने के लिए काफी तैयारियां शुरू की हैं। इन्ही तैयारियों के चलते राज्य के एक मंत्री ने सोमवार को बच्चों में कोरोनावायरस के इलाज के लिए समर्पित कोविड केयर सेंटर को स्थापित करने की योजना को प्रशासन से साझा किया। रिपोर्ट के अनुसार, राधा स्वामी कोविड सुविधा में जिला कलेक्टर, एक राज्य मंत्री और अन्य संबंधित महत्वपूर्ण व्यक्तियों की समीक्षा बैठक के बाद निर्णय को इस अंतिम रूप दिया गया।

सर्वोत्तम मेडिकल उपकरण और 100 बिस्तरों की उपलब्धता के अलावा, इन पेडियेट्रिक यूनिट्स में बच्चों के मनोरंजन की व्यवस्था भी रहेगी। ऐसे और कई अन्य उपाय भी किए जाएंगे जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि कोरोना का डर बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित न कर पाए।

इंदौर में संक्रमण का ग्राफ नीचे जा रहा है 

सोमवार को इंदौर में 773 नए मामलों के साथ कोरोना संक्रमण का ग्राफ और नीचे चला गया। रिकवरी दर 92.3% है और पिछले 24 घंटों में 602 मरीज़ कोरोना से ठीक हो गये हैं। 24 मई को 5 लोगों की कोरोना से मृत्यु होने के कारण मृत्यु दर 1312 तक पहुँच गया। इस समय इंदौर में 9,850 सक्रीय मरीज़ों का इलाज चल रहा है जो की मध्य प्रदेश में सबसे अधिक है। 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *